जिसकी हत्या के आरोप में पति जेल भेजा, वो BF के साथ रंगरैलियां मनाती मिली | LOVE STORY

Tuesday, May 9, 2017

भोपाल। 15 महीने पहले एक विवाहिता बिहार से गायब हुई। उसके माता पिता ने अपने दामाद पर दहेज हत्या का आरोप लगाया। कुछ दिनों बाद एक लाश मिली। परिजनों ने शिनाख्त कर दी। पुलिस ने पति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। 15 महीने से पति जेल में है। इधर जो लड़की बिहार में मृत दर्ज है, वही मप्र के जबलपुर में अपने पुराने प्रेमी के साथ रंगरैलियां मनाती मिली। 

केंट थाना प्रभारी मनजीत सिंह ने बताया कि बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित थाना सरैया के रहने वाले मनोज की शादी अक्टूबर 2015 में स्थानीय युवती रिंकी विश्वकर्मा के साथ हुई थी। शादी के 9 महीने बाद ही रिंकी रहस्यमयी तरीके से ससुराल से गायब हो गई थी। परेशान मायके वालों ने ससुराल पक्ष पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने और हत्या का आरोप लगाया। इस बीच पुलिस को एक लावारिश लाश मिली, जिसकी पहचान महिला के परिजनों ने अपनी बेटी के रूप में कर दी। इस आधार पर पुलिस ने मनोज को न्यायालय में पेश किया और पत्नी की हत्या के आरोप में जेल भेज दिया। 

मां ने की छानबीन
मनोज की मां ललिता को पहले ही बहू रिंकी की गतिविधियों पर शक था। बेटे के जेल जाने से दुखी मां ने तय कर लिया था कि बेटे को हत्या के आरोप से मुक्त कराएगी। मां ने अपने दम पर चुपचाप बहू रिंकी की तलाश शुरू कर दी। इस बीच 15 महीने गुजर गए। हाल ही में ललिता को पता चला था कि रिंकी अपने प्रेमी के साथ जबलपुर के केंट थाना के बिलहरी क्षेत्र में रह रही है। ललिता ने फौरन इसकी जानकारी बिहार के सरैया थाने में दी, जहां से एएसआई शत्रुघन शर्मा एक टीम लेकर ललिता के साथ जबलपुर पहुंचे। केंट पुलिस से संपर्क कर बिहार पुलिस ने रिंकी और उसके प्रेमी मयूर मलिक को हिरासत में ले लिया।

रिंकी ने सुनाई लवस्टोरी 
पूछताछ में रिंकी ने केंट थाना प्रभारी को बताया कि, शादी के पहले से मयूर के साथ उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था। परिजनों के कहने पर उसने मनोज से शादी कर ली, लेकिन वह मयूर को भूल नहीं पा रही थी। एक दिन मौका पा कर वह प्रेमी मयूर के साथ भाग निकली और दोनों जबलपुर आकर रहने लगे। यहां कुछ दिनों तक साथ रहे के बाद दोनों ने मंदिर में शादी कर ली। मयूर एक दुकान में काम करता है, जबकि रिंकी घर में रहती है। बिहार पुलिस रिंकी और मयूर को लेकर सरैया रवाना हो गई।

जीत गया मां का भरोसा
बहु की इस करतूत से दुखी मां सच सामने आने के बार फफक-फफक कर रो पड़ी। ललिता ने कहा कि मुझे पहले ही अपने बेटे की ईमानदारी पर भरोसा था। मुझे सबसे बड़ा दुख इस बात का है कि निर्दोष होने के बावजूद मेरा बेटा 15 महीने से जेल में सजा काट रहा है। मैं चाहती हूं कि मेरे बेटे को झूठे आरोपों में फंसाने और उसे जेल भिजवाने के जुर्म में रिंकी और उसके प्रेमी को सख्त सजा होनी चाहिए।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week