आदिम जाति के अपर संचालक का PHD डिग्री मामला विधानसभा में गूंजा

Tuesday, February 28, 2017

भोपाल। देवरी विधायक हर्ष यादव ने आज विधानसभा में आदिम जाति कल्याण विभाग में पदस्थ अपर संचालक सुरेन्द्र सिंह भण्डारी द्वारा बिना 200 दिन का अवकाश लिए शोध कार्य पूर्ण कर PHD डिग्री प्राप्त करने का मामला प्रश्नकाल के दौरान उठाया। उन्होंने कहा कि शोध कार्य करने हेतु संबंधित संस्था में 200 दिवस की उपस्थिति आवश्यक है, किन्तु श्री भंडारी द्वारा कोई विभाग से अवकाश नहीं लिया और फर्जी तरीके से शोध पूर्ण कर डिग्री प्राप्त कर ली। 

ग्वालियर विश्वविद्यालय से पीएचडी हेतु मुरैना में शोध केन्द्र तय किया गया था और गाइड की पदस्थापना श्योपुर जिले में थी, शोधार्थी भोपाल में अफसर है और शोधकार्य के दौरान निरंतर कार्यालय में उपस्थित रहा, फिर किस तरह डिग्री दे दी गई। श्री भंडारी को शोध कार्य की विभागीय अनुमति में भी अवकाश नहीं दिये जाने का उल्लेख था। डिग्री हेतु आवेदन भी अपूर्ण व नियोक्ता का प्रमाणपत्र भी संदेहास्पद है। आवेदन में स्नातकोत्तर गढ़वाल विश्वविद्यालय से किया जाना बताया गया है, किन्तु पीएचडी हेतु माइग्रेशन जामिया विश्वविद्यालय का प्रस्तुत किया गया है। ऐसे में पूरा मामला ही संदेहास्पद है। 

प्रश्न के उत्तर में उच्चशिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने श्री यादव के तर्कों से सहमत होकर मामले की जॉंच एडीशनल कमिश्नर उच्च शिक्षा से कराये जाने की घोषणा कि और कहा कि विधायक द्वारा सुझाये गये सभी बिन्दु जॉंच में शामिल किये जायेंगे और यथाशीघ्र जॉंच पूरी कराकर गुणदोष के आधार पर कार्यवाही की जायेगी।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week