भोपाल जेल से कैदियों की फरारी पर सीएम शिवराज सिंह ने भी उठाए सवाल - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

भोपाल जेल से कैदियों की फरारी पर सीएम शिवराज सिंह ने भी उठाए सवाल

Wednesday, November 2, 2016

;
भोपाल। सेंट्रल जेल से आतंकवादियों की फरारी और एनकाउंटर पर कई सवाल उठ रहे हैं। हालांकि एक समूह ने इसे आतंकवाद और देशप्रेम का मुद्दा बना दिया है परंतु सरकार और बाकी सभी प्रमुख वर्ग भ्रमित नहीं हैं। बुधवार को CM शिवराज सिंह अचानक सुबह इस ISO जेल का निरीक्षण करने जा पहुंचे। उनके साथ चीफ सेकेट्री बीपी और DGP ऋषि कुमार शुक्ला भी मौजूद थे। उन्होंने खुद सवाल उठाए कि जेल की इतनी बड़ी दीवार आतंकवादी बिना मदद के कैसे फांद गए। इसके अलावा उन्होंने और भी कई सवाल किए जो इशारा कर रहे हैं कि जेल प्रबंधन आतंकवादियों से मिला हुआ था, उनकी मदद की जा रही थी। 

दीवार की ऊंचाई देखकर सीएम भी थे हैरान
निरीक्षण के दौरान सीएम ने उस दीवार को भी देखा, जिस पार कर सिमी कार्यकर्ता जेल से फरार हुए थे। हैरान होकर सीएम ने मौके पर मौजूद अफसरों से पूछा कि 28 फीट ऊंची दीवार पर कोई कैसे चढ़ सकता है। उन्होंने सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया और अफसरों एवं सिपाहियों सहित अन्य स्टाफ बढ़ाने की सूची तैयार करने के निर्देश दिए।

शिवराज सिंह ने भी उठाए सवाल 
सेंट्रल जेल में आखिर कहां गड़बड़ियां हैं, इसे देखने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अचानक बुधवार सुबह वहां जा पहुंचे। सेंट्रल जेल की 28 फीट ऊंची दीवार फांदकर आतंकी कैसे भाग गए? हवलदार की हत्या कर दी और स्टाफ को भनक क्यों नहीं लगी? जेल से भागने की प्लानिंग के लिए ये जेल में कब मिलते थे? इससे पहले मंगलवार को भोपाल पहुंची एनआईए की टीम ने जेल के अफसरों से ऐसे कई सवाल किए। सुबह आठ बजे से शाम चार बजे तक आठ घंटे पूछताछ चली। एनआईए ने सस्पेंड हुए अफसरों से पूछताछ करने के साथ ही जेल के चप्पे-चप्पे का बारीकी से मुआयना किया।

जेल में आतंकवादियों के पास मिले ड्रायफ्रूट्स
सेंट्रल जेल की हाई सिक्योरिटी सेल से सिमी के 8 आतंकियों के भागने और मुठभेड़ में मौत के बाद जेल में बंद 21 आतंकियों की बैरकों में सर्च अभियान चलाया गया। जेल प्रबंधन और पुलिस अफसरों को यहां से काफी सामान मिला। इनमें काजू, बादाम, किशमिश, छुआंरे, पिंड खजूर और खाना बनाने के बर्तन के अलावा सिगड़ी भी है। आतंकी मटके फोड़कर इनमें खाना पकाते थे। अब पुलिस पता लगा रही है कि इन्हें बर्तन और सिगड़ी आखिर किसने मुहैया कराई। उधर, जेल अफसर आतंकियों से मिलने आने वालों का रिकाॅर्ड भी खंगाल रहे हैं। मंगलवार को सेल में बंद आतंकियों की बैरकों में लगे टीवी कनेक्शन भी काट दिए गए। इनकी निगरानी के लिए करीब डेढ़ महीने से बंद सीसीटीवी कैमरों की भी मरम्मत शुरू की गई है।

भोपाल जेल में आतंकियों की भूख हड़ताल 
आतंकी अबू फैजल सहित अन्य ने अपनी मांगों की नई फेहरिस्त सामने रखी है।
एक- दूसरे से पहले की तरह मिलने दिया जाए।
बैरक के बंद किए टीवी सेट दोबारा शुरू कराए जाएं।
खाने में ड्राई फ्रूट, पिंड खजूर , छुआरा, दूध और पौष्टिक आहार ज्यादा मात्रा में दिया जाए।
जांच के नाम पर बार-बार परेशान नहीं किया जाए।
पढ़ने के लिए हिंदी और अंग्रेजी अखबार पूरे दिए जाएं। अखबार को काटकर नहीं दिया जाए।
इंपोर्टेड कंबल ओढ़ने और बिछाने को नई चादरें दी जाएं।
;

No comments:

Popular News This Week