मप्र: स्कूल के हॉस्टल में आ गई मादा टाइगर - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मप्र: स्कूल के हॉस्टल में आ गई मादा टाइगर

Thursday, November 10, 2016

;
होशंगाबाद। जंगल में शिकारियों से बचने के लिए टाइगर अब आबादी वाले इलाकों की तरफ आने लगे हैं। पन्ना से सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (STR) में आई बाघिन पी-213 गुरूवार को सरस्वती स्कूल के हॉस्टल में दिखाई दी। बता दें कि मप्र में पिछले एक साल में 30 टाइगर्स की संदिग्ध मौत हो चुकी है। नेशनल पार्कों में शिकारियों की मौजूदगी और माफियाओं की धमक भी प्रमाणित हो चुकी है। 

गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे पिपरिया से करीब 27 किमी दूर पचमढ़ी रोड स्थित मटकुली गांव में बाघिन P-213 की मौजूदगी से हड़कंप मच गया। बाघिन गांव से कुछ ही दूरी पर मेहंदीखेड़ा रोड पर स्थित सरस्वती स्कूल के हॉस्टल के पीछे झाड़ियों में बैठी मिली। हॉस्टल के स्टूडेंट्स ने जब खिड़की से उसे देखा, तो उनमें घबराहट मच गई। तुरंत STR की रेस्क्यू टीम को सूचित किया गया। करीब 2.30 बजे बाघिन वहां से उठकर जंगल में चली गई। हालांकि टीम बाघिन की सुरक्षा-निगरानी कर रही है। उधर, बाघिन के मूवमेंट के कारण आसपास के गांवों में डर बना हुआ है।

STR के लिए चिंता का कारण...
P-213 पन्ना में भी आबादी वाले क्षेत्रों में ज्यादा मूवमेंट करती थी। गांवों में बाघिन की हलचल एसटीआर के लिए चिंता का कारण बन गई। एसटीआर ने बाघिन पर नजर रखने मटकुली के आसपास स्पेशल टीम तैनात कर दी थी। एसटीआर प्रबंधन के मुताबिक बाघिन की हलचल सेटलमेंट के लिए तो अच्छी बात है, लेकिन अगर वह किसी अन्य इरादे से लोगों के बीच जा रही तो बड़ा खतरा है। यदि ऐसा ही रहा तो एसटीआर बाघिन को शिफ्ट भी कर सकता है।
;

No comments:

Popular News This Week