अध्यापकों के लिए 6वें वेतनमान का संशोधन मंजूर - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

अध्यापकों के लिए 6वें वेतनमान का संशोधन मंजूर

Friday, October 14, 2016

;
भोपाल। राज्य सरकार ने प्रदेश में 2.85 लाख अध्यापकों को दिए जाने वाले छठवें वेतनमान के संशोधन को मंजूरी दे दी है। अब सहायक अध्यापकों को उनकी मांग के मुताबिक 7,440-2,400 और वरिष्ठ अध्यापकों को 10,230-3,600 का वेतनमान मिलेगा।

इससे अध्यापकों के वेतन में न्यूनतम 4500 से 6000 रुपए और अधिकतम 10 हजार रुपए तक प्रतिमाह की बढ़ोतरी होगी। लगातार छुट्टियों को देखते हुए संशोधित वेतन गणना पत्रक अगले हफ्ते जारी हो सकता है। सरकार एरियर्स की राशि किस्तों में देगी।

सूत्र बताते हैं कि स्कूल शिक्षा विभाग ने मुख्यमंत्री सचिवालय को चार प्रस्ताव भेजे थे, जिनमें से 7,440 और 10,230 रुपए मूलवेतन का प्रस्ताव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मान लिया है। चौहान ने अधिकारियों को इसी हफ्ते संशोधित गणना पत्रक जारी करने के निर्देश भी दिए हैं।

उम्मीद है कि शहडोल लोकसभा उपचुनाव की आचार संहिता प्रभावी होने के पहले ये आदेश जारी हो जाएंगे। इस वेतनमान को स्वीकृत करने से सरकार पर लगभग 22 सौ करोड़ का अतिरिक्त वित्तीय भार आएगा। सरकार इस तैयारी में है कि दिसंबर में छठवें वेतनमान के हिसाब से वेतन दे दिया जाए।

किस्तों में मिलेगी एरियर की राशि
अध्यापकों को एरियर की राशि जनवरी 2016 से दी जाएगी। यह राशि किस्तों में मिलेगी। सरकार चार समान किस्तों में यह राशि दे सकती है। विचार इस पर भी किया जा रहा है कि अगले वित्तीय वर्ष के बजट में इसका प्रावधान कर पूरी राशि एकमुश्त दे दी जाए।

यह थी विसंगति
वेतन बैंड ग्रेड-पे के आधार पर तय किया जाता है। सरकार ने सहायक अध्यापकों को 2400 और वरिष्ठ अध्यापकों को 3600 का ग्रेड-पे दिया है। जबकि वेतन बैंड क्रमश: 5200 और 9300 निर्धारित किया था। ग्रेड-पे के हिसाब से दोनों स्तर के अध्यापकों को 7,440 और 10,230 वेतन बैंड दिया जाना चाहिए था। अध्यापक यही मांग कर रहे थे।

जनवरी में स्वीकृत हुआ था छठवां वेतनमान
पांच जनवरी को कैबिनेट ने अध्यापकों को छठवां वेतनमान एक जनवरी 2016 से देने का निर्णय लिया था। यह राशि अप्रैल से वेतन में जुड़कर मिलना थी, लेकिन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग और नगरीय प्रशासन विभाग ने मई में वेतन गणना पत्रक जारी किया। इसमें ग्रेड-पे के मुताबिक वेतन बैंड नहीं दिया गया था। अध्यापकों की नाराजगी को देखते हुए सरकार ने गणना पत्रक निरस्त कर दिया था और स्कूल शिक्षा विभाग से दूसरे प्रस्ताव लाने को कहा था।

सीएम ने नसरुल्लागंज में की घोषणा
उधर, मुख्यमंत्री ने गुरुवार को नसरुल्लागंज में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा है कि अध्यापकों के वेतन गणना पत्रक शुद्धिकरण के आदेश दे दिए हैं। जल्द इसे जारी किया जाएगा। सीएम ने यहां सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों को अपनी मां सुंदरी बाई की स्मृति में कॉपियां भी बांटी।
;

No comments:

Popular News This Week