बस कंडक्टर निकला रचना का किडनैपर, 1 लाख का था इनाम - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

बस कंडक्टर निकला रचना का किडनैपर, 1 लाख का था इनाम

Wednesday, September 7, 2016

;
भोपाल। स्कूल कॉलेज आते जाते लड़कियां अक्सर बस स्टाफ के चंगुल में फंस जातीं हैं। पिछले कुछ सालों में कई वारदातें सामने आईं हैं। भोपाल के एमएलबी कॉलेज से किडनैप हुई रचना परमार भी बस कंडक्टर के जाल में फंस गई थी। वो रचना उसे अच्छी तरह से जानती थी और वो रचना के पूरे परिवार की कहानी जानता था। बदमाशों ने रचना को अजमेर (राजस्थान) में बंधक बनाकर रखा था। 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मौके से तीन आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। इनमें मुख्‍य आरोपी रणवीर सिंह सहित उसके दो दोस्त शामिल हैं। रचना के अपहरण से 22 दिन पहले (7 अगस्त) एक अंजान शख्स ने छात्रा के पिता को धमकी भरा फोन किया था। कहा था कि तीनों बच्चों को संभालकर रखना, उठा लेंगे। परिजनों ने रचना का पता बताने पर एक लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा की थी।

यह है किडनैपिंग के पीछे की कहानी
किडनैपर राजा और रचना की जान-पहचान मंडीदीप से भोपाल आने वाली एक बस में हुई थी।राजा लोकल बस में कंडक्टरी और ड्राइवरी का काम करता था। इस दौरान राजा मंडीदीप से आने वाली लड़कियों के लिए अपनी बस में सीट रोक कर लाता था। रचना सहित उसकी अन्य सहेलियों के मोबाइल नंबर राजा के पास थे, राजा लड़कियों को बस में सीट रोके जाने की जानकारी देता था। राजा पर भरोसा होने के कारण लड़कियां अक्सर उसी की बस में सफर करती थी।

ऐसे किया किडनैप 
7 अगस्त को धमकी मिलने के बाद से रचना अपने मामा के साथ कॉलेज आने-जाने लगी थी। इस दौरान राजा ने रचना और उसके मामा पर नजर रखना शुरू कर दिया। 30 अगस्त को राजा कॉलेज के बाहर रचना से मिला था। बातचीत में राजा ने बताया कि वह जनता है कि रचना के परिवार को किसने जान से मारने की धमकी दी थी। जब रचना ने उससे आरोपी के बारे में जानना चाहा, तो राजा ने उसे अकेले में चलकर बात करने को कहा। चूंकि रचना को राजा पर भरोसा था इसलिए वह अकेले राजा के साथ थोड़ी दूर पैदल चली गई, जहां राजा का दोस्त बबलू गाड़ी लेकर खड़ा था। दोनों ने रचना को जबरन गाड़ी में बैठाया और शहर से बाहर ले गए। 30 अगस्त को शाम तक पूरे शहर में रचना के अपहरण का मामला फैल चुका था। पुलिस के डर से किडनैपर ने रचना को बबलू के घर पर छुपा कर रखा। अगले दिन वे रचना को गाड़ी से अजमेर लेकर चले गए और वहां एक होटल में उसे छुपा दिया। किडनैपर ने रचना को बताया था कि उसका छोटा भाई, पिता और होने वाला पति भी उनके निशाने पर है। रचना या उसके परिवार ने पुलिस को जानकारी देने की कोशिश की, तो वे उसके परिवार को खत्म कर देंगे।

इशारों पर नाचती रही रचना
किडनैपर की धमकी से डरकर रचना वैसा ही करती रही जैसा की राजा और बबलू ने उससे कहा था। इधर अपहरण का मामला सामने आते ही पुलिस ने परमार परिवार के दुश्मनों, दोस्तों, साथ काम करने वालों और रिश्तेदारों पर नजर रखना शुरू कर दिया था। इस बीच पुलिस रचना के कॉलेज गई और उसके साथ बस में आने-जाने वाली सहेलियों से भी पूछताछ की। सहेलियों ने बताया कि वे अक्सर एक ही बस से कॉलेज आया-जाया करती थी, क्योंकि बस का ड्राइवर राजा उनके लिए सीट रोक कर रखता था। पुलिस ने बस और राजा के बारे में छानबीन की तो पता चला कि राजा 30 अगस्त से ही काम पर नहीं आया है। जानकारी जुटा कर पुलिस राजा के घर पहुंची, जहां राजा की पत्नी ने पुलिस को बताया कि राजा जरूर काम का कहकर 30 अगस्त से ही बाहर गया हुआ है। पुलिस का शक और गहरा हो गया और टीम ने राजा की तलाश शुरू कर दी।

चोरी के नंबर से किए जा रहे थे फिरौती के लिए कॉल
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार राजा और उसका साथी लगातार परमार परिवार को धमकी भरे कॉल और मैसेज कर रहे थे। जिस नंबर से फिरौती की मांग की जा रही थी वह चोरी का था। मोबाइल नंबर ट्रैस करते हुए पुलिस अजमेर पहुंची और राजा को होटल से ढूंढ निकाला। तीन दिन पहले ही पुलिस ने छात्रा को आजाद करा कर आरोपी राजा को अपने कब्जे में ले लिया था। राजा का दूसरा साथी बबलू फिलहाल पुलिस गिरफ्त से बाहर है। राजा से पूछताछ के बाद पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। छात्रा के भी बयान दर्ज किए जा चुके है।
;

No comments:

Popular News This Week