सपाक्स का प्रांतीय महाधिवेशन अगस्त में, विरोध की रणनीति बनेगी - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

सपाक्स का प्रांतीय महाधिवेशन अगस्त में, विरोध की रणनीति बनेगी

Wednesday, August 3, 2016

;
भोपाल। दिनांक 2.8.2016 को सपाक्स की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक सम्पन्न हुई जिसमें संस्था के अन्तर्गत प्रदेश भर में चल रही विभिन्न गतिविधियों एवं भविष्य की रणनीति पर चर्चा की गई। संस्था का विस्तार अब सम्पूर्ण मध्य प्रदेश में हो चुका है तथा सभी जिलों में गतिविधियॉं संचालित हो रही है। संस्था की सदस्य संख्या 40000 से अधिक हो चुकी है, 40 से अधिक जिलों में कार्यकारिणी का गठन भी पूर्ण हो चुका है। 

विगत दो माह की अवधि में 30 से अधिक जिलों में शासन द्वारा पदोन्नति में आरक्षण के विषय में माननीय उच्च न्यायालय के निर्णय को न मानकर प्रदेश के 70 प्रतिशत से अधिक शासकीय सेवकों के साथ किये गये अन्याय के विरूद्ध रैलियॉं/प्रदर्शन जिला, तहसील एवं विकास खण्ड स्तर पर किये जा चुके है। इन सभी में विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा संस्था के साथ सक्रिय भागीदारी की गई तथा संस्था प्रदेश के बड़े वर्ग के साथ कियेे जा रहे पक्षपात को व्यवहार के संबंध में व्यापक जनजागरूकता लाने में सफल हुई है। 

इन रैलियों में शासकीय सेवकों के साथ हजारों की संख्या में जन सामान्य एवं सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ता तथा बड़ी संख्या में छात्र सम्मिलित हुये। रैलियों एवं प्रदर्शन का सिलसिला निरन्तर जारी है। उपरोक्त के अतिरिक्त कई जिलों द्वारा शासन को इस अन्याय को समाप्त करने हेतु हजारों की संख्या में जनसामान्य द्वारा पोस्टकार्ड भी भेजें गये है तथा सभी जनप्रतिनिधियों को व्यक्तिगत रूप से मिलकर ज्ञापन भी दिये गये। 

संस्था द्वारा प्रदेश भर में लाई गई व्यापक जनजागरूकता के फलस्वरूप ही मीडिया एवं अन्य संगठनों का यह आँकलन है कि विगत 03 नगरीय निकाय चुनाव में इसका व्यापक प्रभाव देखने को मिला है तथापि अभी भी इस अन्याय को समाप्त करने के लिये शासन स्तर पर सपाक्स के समर्थन में कोई भी सार्थक कार्यवाही परिलक्षित नहीं हुई हैं। 

अतः यह विचार किया गया कि इस माह के अंतिम सप्ताह में प्रदेशभर में सामान्य, पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक वर्ग के शासकीय सेवकों द्वारा एक साथ चेतावनी स्वरूप काली पट्टी बांधकर विरोघ प्रदर्शन किया जावेगा जिसके पश्चात् एक दिवसीय सामूहिक अवकाश भी लिया जावेगा। 

यह भी निर्णय लिया गया कि आन्दोलन को और गति देने हेतु इस माह के द्वितीय सप्ताह में प्रांत स्तरीय महाधिवेशन (द्वितीय) भोपाल में आयोजित कर सभी के सुझावों के अनुसार भविष्य की व्यापक रणनीति निश्चित की जावेगी। 
;

No comments:

Popular News This Week