BHOPAL NEWS- कलेक्टर एवं उनकी पत्नी डेंगू का शिकार, अस्पताल में भर्ती

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मलेरिया विभाग की मक्कारी प्रमाणित हो गई है। भोपाल के VIP क्षेत्र चार इमली में डेंगू मच्छरों की संख्या इतनी ज्यादा बढ़ गई कि वह बंद घरों में घुसकर लोगों पर हमला कर रहे हैं। भोपाल कलेक्टर श्री आशीष सिंह एवं उनकी पत्नी दोनों न केवल डेंगू का शिकार हुए हैं बल्कि स्थिति गंभीर प्रतीत हो रही है। उल्लेख अनिवार्य के पिछले दिन शिकायत मिली थी कि जिला मलेरिया ऑफिस के कुछ कर्मचारियों द्वारा डेंगू के लार्वा के सर्वे के नाम पर कुछ लोगों पर दबाव बनाकर लाभ प्राप्त करने का प्रयास किया गया था। 

भोपाल कलेक्टर बीमार, अस्पताल में भर्ती 

बताया गया है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दौरे के बाद से ही कलेक्टर श्री आशीष सिंह की तबीयत बिगड़ता शुरू हो गई थी। डेंगू मलेरिया के कारण उन्होंने ऑफिस आना बंद कर दिया था। गुरुवार को स्थिति नियंत्रण से बाहर होने के कारण उन्हें एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती किया गया। डॉक्टर ने बताया कि उनके शरीर का टेंपरेचर 101 डिग्री सेल्सियस था। डेंगू मलेरिया की स्थिति में यह काफी खतरनाक माना जाता है। डॉक्टर ने यह भी कंफर्म किया कि उनकी धर्मपत्नी भी डेंगू मलेरिया का शिकार है। शुक्रवार को उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। 

डेंगू मलेरिया का लार्वा का सर्वे के नाम पर वसूली कर रही है टीम?

मलेरिया विभाग की जिम्मेदारी है केवल लोगों को जागरूक करें। डेंगू मलेरिया के लार्वा का पता लगे और लोगों को सीखने की किस प्रकार डेंगू मलेरिया के मच्छरों को पैदा होने से रोका जा सकता है लेकिन पिछले दिनों एक शिकायत मिली थी कि, मलेरिया विभाग के कर्मचारियों की एक टीम ने एक पॉश कॉलोनी में डेंगू मलेरिया के सर्वे के नाम पर लोगों पर दबाव बनाया और उनसे लाभ प्राप्त करने का प्रयास किया। पीड़ित व्यक्ति द्वारा इसकी विधिवत शिकायत नहीं की गई थी इसलिए यह मामला समाचारों की सुर्खियां नहीं बना। 

 पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। ✔ यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें।  ✔ यहां क्लिक करके व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन कर सकते हैं। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।
Tags

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !