BHOPAL में पैसेंजर रोप-वे बनाए जाएंगे, 3 स्थानों के लिए प्लान तैयार

भोपाल। 
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रोड ट्रैफिक को कम करने और धार्मिक स्थलों में टूरिस्टों को सीधे पहुंचाने के लिए अब मप्र के प्रमुख शहरों में पैसेंजर रोप-वे बनाए जाएंगे। नेशनल हाईवेज लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट लिमिटेड ने लोकेशन तय कर दी हैं। 

भोपाल की तीन लोकेशन हैं। कोलार रोड से न्यू मार्केट, कोकता ट्रांसपोर्ट नगर से नादरा बस स्टैंड वाया गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया और वन विहार से खानूगांव। पीडब्ल्यूडी और टूरिज्म विभाग ने रोप-वे के रूट का आकलन भी कर लिया है। केंद्र सरकार की मंजूरी मिलते ही इस पर काम शुरू होगा। अनुमान है कि इसमें 3 से 4 साल का वक्त लगेगा। देश में इस समय रोप-वे की स्पीड 6 मीटर प्रति सैकंड है। इस लिहाज से पैसेंजर ट्रैफिक के लिए इन रोप-वे को मुफीद माना जा रहा है। इन रोप-वे के निर्माण का पूरा पैसा नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (केंद्र सरकार) देगी। बनने के बाद इसे पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल पर चलाया जाएगा। 

संचालन करने वाली एजेंसी को हर साल एक निश्चित राशि का भुगतान सरकार को करना पड़ेगा। यह राशि कितनी होगी, अनुबंध की शर्तों पर तय होगी। भोपाल में प्रस्तावित लोकेशन में कोलार रोड से न्यू मार्केट तक रोप-वे का ज्यादातर हिस्सा सड़क के साथ-साथ ही होगा। इसके 30 से 40 फीट ऊंचे पिलर बनेंगे, जिस पर यह चलेगा। वन विहार से खानूगांव वाली लोकेशन पर रोप-वे बड़े तालाब के ऊपर से गुजरेगा।

उज्जैन - महाकाल मंदिर से रेलवे स्टेशन, टीकमगढ़ - ओरछा में 2-वे कनेक्टिविटी होगी। टीकमगढ़ और झांसी की साइड से, ग्वालियर - फूलबाग चाैराहा से ग्वालियर फोर्ट, खंडवा - सिधवरकूट (ओंकारेश्वर) से राजराजेश्वर आश्रम (ओंकार हिल्स) और सैलानी आइलैंड री-पोर्ट, अनूपपुर - अमरकंटक से कपिल धारा, छतरपुर - रनेह फॉल्स (खजुराहो) से केन घड़ियाल रिवर बैंक, रायसेन - रायसेन फोर्ट से रायसेन का अपर एरिया,नर्मदापुरम - महादेव मंदिर से चौरागढ़ तक चलेगा रोप-वे।