BHOPAL NEWS- डॉ दीपक मरावी नर्सिंग गर्ल्स कॉलेज के कारण चर्चाओं में

भोपाल।
हमीदिया हॉस्पिटल के सुपरिंटेंडेंट डॉक्टर दीपक मरावी नर्सिंग कॉलेज के कारण चर्चा में आ गए हैं। उनके ऑफिस का रिनोवेशन हो रहा है। इसलिए ऑफिस शिफ्ट करना था। डॉ दीपक मरावी को कैंप ऑफिस के लिए नर्सिंग गर्ल्स कॉलेज पसंद आया लेकिन कॉलेज के मैनेजमेंट और लड़कियों को डॉक्टर दीपक मरावी पसंद नहीं आए। उनकी शिकायत कर दी गई और उन्हें सामान समेटना पड़ा।

हमीदिया हॉस्पिटल का सुप्रिटेंडेंट ऑफिस जिस लाल बिल्डिंग में है, उसका रिनोवेशन होना है। डॉ. मरावी ने कमला नेहरू अस्पताल के पीछे स्थित नर्सिंग गर्ल्स कॉलेज की बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर अपना कैंप ऑफिस बनाने का डिसीजन लिया। किसी से कोई चर्चा नहीं की और फर्नीचर भेज दिया। कॉलेज मैनेजमेंट को समझ में नहीं आया कि हो क्या रहा है। तभी डॉक्टर दीपक मरावी बिल्डिंग का इंस्पेक्शन करने के लिए आ गए। 

जैसे ही सब कुछ क्लियर हुआ, कॉलेज मैनेजमेंट डॉ दीपक मरावी के खिलाफ खड़ा हो गया। डीन कार्यालय को पत्र लिख दिया गया। बताया गया कि नर्सिंग गर्ल्स कॉलेज में 510 छात्राएं पढ़ती हैं, हॉस्टल में 360 रहती हैं। इस परिसर में पुरुषों का प्रवेश वर्जित है। विवाद बढ़ा तो दीपक मरावी ने सामान समेट लिया। 

जीएमसी प्रबंधन ने कमला नेहरू की बिल्डिंग के फर्स्ट फ्लोर पर डॉक्टर मरावी का ऑफिस शिफ्ट करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। मंडे से डॉक्टर मरावी यहीं पर मिलेंगे। 

यह नीयत की खराबी का मामला है
​​​​​नर्सिंग कॉलेज व गर्ल्स हॉस्टल में पुरुषों के प्रवेश रोक होती है, पर डॉ. मरावी यहीं ऑफिस शिफ्ट कर रहे थे। यह नीयत की खराबी का मामला है। हमने भी आला अधिकारियों से आपत्ति दर्ज कराई तब शिफ्टिंग रुकी। -गुलाब सिंह ठाकुर, प्रदेश अध्यक्ष, जयस संगठन