2022 में लाइफ चेंज करनी है तो सिर्फ 4 आदतें चेंज कीजिए- MOTIVATIONAL THOUGHTS

शक्ति रावत।
नया साल शुरू हो चुका है, हम सभी नए साल के साथ नई आशाएं और उम्मीदें भी लगाते हैं, लेकिन कुछ ही दिनों में वे भी पुराने साल की तरह पुरानी हो जातीं हैं। ऐसा इसलिए होता है, कि हम अपने मोटीवेशन या जोश को कुछ ही दिन कायम रख पाते हैं, और जल्द अपनी पुरानी आदतों पर लौट जाते हैं। इस साल ऐसा ना हो इसके लिए यह चार आदतें बड़ी काम हैं, अगर आप इनको अपनाना शुरू कर दें तो संभव हैं, कि यह साल आपके जीवन में बदलाव और नई दिशाओं का साल बन जाए। आईए जानते हैं, कौन सी हैं, वे चार आदतें:

1- बीती ताहि बिसारिए

मनोविज्ञान कहता है, कि 100 में 90 लोग अपने विचारों में अतीत में जीते हैं, लेकिन एक बात जान लें, बीते समय में कुछ अच्छा हुआ या बुरा अब उसका कुछ नहीं हो सकता। यह समझें कि आप वक्त में पीछे लौटकर सबकुछ ठीक नहीं कर सकते लेकिन इससे उलट वर्तमान यानि आज और आने वाले कल को अपने काम और विचार से जरूर प्रभावित कर सकते हैं। इसलिये पीछे मुडक़र बार-बार देखने की इस आदत को बदल डालिए। क्योंकि यह आदत आपकी प्रगति में सबसे बड़ी बाधा है।

2- बार-बार कोशिश से ही सफल होंगे

एक बार हार जाने पर फिर से कोशिश नहीं करने का मतलब होता है कि आपने सफल होने का विचार छोड़ दिया है। या फिर आपके भीतर मेहनत करने का हौसला नहीं बचा है। तो यह जान लें कि पूरी दुनिया में एक भी आदमी आज तक ऐसा पैदा नहीं हुआ, ना ही होगा जो कह सके कि वह जीवन में कभी असफल नहीं हुआ। दोबारा कोशिश करने का मतलब है दोगुने उत्साह के साथ अपने लक्ष्य और सपनों के लिए संघर्ष शुरू करना। हार मानने की आदत को बदलिए।

3- दृढ़ इच्छाशक्ति है बड़ी ताकत

आपके लक्ष्य को पाने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति का कोई विकल्प नहीं है, इसकी जगह कोई दूसरा गुण नहीं ले सकता। दृढ़ता का स्वभाव आपको परेशानी में तो डाल सकता है, कई बार खुद को अकेला भी महसूस करेंगे लेकिन अंत में आपकी मंजिल पर आपको यही चीज पहुंचाएगी। कमजोर इच्छाशक्ति की आदत को बदलिये।

4- जरूरी काम सुबह के समय

वैज्ञानिक मानतें हैं, कि बड़े और जरूरी काम करने के लिए सुबह का समय आदर्श होता है, क्योंकि इस समय वातावरण में ताजा ऑक्सीजन की भरपूर मात्रा होती है, जो दिमाग के लिए जरूरी है, इसके उलट रात में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है, जिससे दिमाग कम चलता है। इसलिये दिमागी काम के लिए रात का समय ठीक नहीं। अपने लक्ष्यों से जुड़ी जरूरी योजनाएं और दूसरे काम सुबह के समय करें परिणाम और अच्छे मिलेंगे। कामों को टालने की आदत बदल दें। -लेखक मोटीवेशनल एंव लाइफमेनेजमेंट स्पीकर हैं।