BHOPAL NEWS- कैंसर और दर्द से पीड़ित दो युवकों ने सुसाइड किया

भोपाल
। माहौल बदल गया है। डॉक्टर अब अपने मरीजों को जिंदगी की उम्मीद नहीं दिखाते बल्कि मौत का डर दिखाते हैं। नतीजा, बीमार व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में दो बीमार युवकों ने आत्महत्या कर ली। एक युवक कैंसर से पीड़ित था जबकि दूसरा शरीर में दर्द से। दोनों ने अपनी बीमारी से लड़ने के बजाय जिंदगी से हार जाना उचित समझा। 

टीकमगढ़ से इलाज कराने भोपाल आया था, डॉक्टर ने कैंसर बताया

एएसआई राजेंद्र मिश्रा ने बताया कि बावड़िया ब्रिज रेलवे ट्रैक से एक युवक का शव मिला था। तलाशी लेने पर उसके पास से एक आधार कार्ड मिला। आधार कार्ड के माध्यम से मृतक की पहचान कोमल सिंह पिता दयाराम (32) मोहनगंज, टीकमगढ़ के रूप में की गई। कोमल सिंह प्राइवेट काम करता था। उसके परिजनों ने पुलिस को बताया कि 14 सितंबर को कोमल सिंह अपने जीजा समेत अन्य रिश्तेदार के साथ भोपाल आया था। उसे शाहजहांनाबाद स्थित कैंसर अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में जांच के रिपोर्ट मिली तो पता चला कि उसके मुंह का कैंसर आखिरी स्टैज पर है। इससे वह तनाव में आ गया।

दूध लेने के बहाने अस्पताल से निकला और ट्रेन के सामने लेट गया

कमल के जीजा ने पुलिस को बताया कि बुधवार शाम कोमल सिंह दूध लेने की बात कहकर अस्पताल से निकला था। इसके बाद वह अस्पताल नहीं लौटा। गुरुवार को उन्हें हादसे की जानकारी मिली। वह कैंसर की बीमारी का पता चलने के बाद से काफी परेशान रहता था।

सुसाइड नोट में स्पष्ट लिखा, दर्द के कारण जा रहा हूं

भोपाल के अशोका गार्डन में निजी कंपनी के सर्वेंट क्वार्टर में बीमारी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। सुसाइड नोट में उसने लिखा कि वह शरीर दर्द से परेशान होकर यह कदम उठा रहा है। इसमें परिवार के किसी भी सदस्य का कसूर नहीं है। परिवार के सदस्यों को परेशान नहीं किया जाए। एएसआई राजकुमार गौतम ने बताया कि शैलेष दमाड़े पिता मानिकलाल दमाड़े (36) निजी कंपनी की सर्वेंट क्वार्टर में स्टोर कीपर का काम करता था। उसके साथ उसका साला जीवन भी काम करता है। 

जीवन ने पुलिस को बताया कि गुरुवार सुबह करीब सवा 9 बजे के आसपास शैलेष ने एसिड पी लिया था। तबीयत बिगड़ने पर वह उसे अन्य लोगों की मदद से निजी अस्पताल ले गया, वहां डॉक्टर ने बताया कि उसकी मौत हो चुकी है। शैलेश के पास मिले सुसाइड नोट में आत्महत्या की वजह शरीर में दर्द लिखा है, लेकिन उसे किन कारणों के चलते शरीर में दर्द होता था इस बात का जिक्र नहीं किया है।

17 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

सोमवार से शिक्षक भर्ती शुरू हो जाएगी: अब मुख्यमंत्री ने कहा
MP BOARD- त्रैमासिक परीक्षा का सिलेबस जारी, यहां पढ़िए
MP NEWS- पुलिस, शिक्षक, पटवारी भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ की जाएगी: CM शिवराज सिंह
मध्य प्रदेश मानसून- 3 जिलों बादल तोड़, 28 जिलों में मूसलाधार वर्षा की चेतावनी
MP BOARD- त्रैमासिक परीक्षा का संशोधित टाइम टेबल जारी
MP NEWS- मध्य प्रदेश में राशन की दुकानों का संचालन महिलाएं करेंगी: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा
BHOPAL NEWS- रेलवे ने प्लेटफार्म टिकट सस्ते किए
MPBOU BHOPAL की सलाहकार मैडम सुर्खियों में, आइएएस अफसर पर नेपोटिज्म का आरोप
MP BOARD- त्रैमासिक परीक्षा का टाइम टेबल जारी, यहां पढ़िए
GWALIOR NEWS- नगर निगम कमिश्नर और जिला पंचायत सीईओ बदले
MP NEWS- मात्र 35000 की सैलरी में चार आलीशान बंगले, लग्जरी लाइफ

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiशेरों के शिकार की परंपरा क्यों बनाई, उसका तो मांस भी नहीं खाया जाता
GK in Hindiगेहूं की रोटी में हवा कैसे भर जाती है, ज्वार और मक्का की रोटी में क्यों नहीं भरती
GK in Hindiजब अमेरिका 110V बिजली से जगमगाता है तो भारत में 220V बिजली सप्लाई क्यों की जाती है
GK in Hindiदुनिया की पहली डामर रोड कहां और कब बनी थी
GK in Hindiउल्लू घोंसला क्यों नहीं बनाते, खंडहर में क्यों रहता है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here