Loading...    
   


महाराजा, राजा , मसनदें और बेचारा प्रजातंत्र - Pratidin

कहने को भारत में १९४७ के बाद से लोकतंत्र आया है, इससे पहले गुलामी और उससे पहले राजे- रजवाड़ों का शासन इस देश ने भोगा है | सात दशक के बाद भी देश का प्रजातंत्र प्रजातांत्रिक ढांचे में नहीं ढल पाया है | प्रजातंत्र के मन्दिरों में आज भी समाज के अन्य वर्गों से आये प्रतिनिधि महाराजा – राजा के सामने कोर्निश बजाते नज़र आते हैं | पुराने शासकों यथा “महाराजा”, “राजा”, “जागीरदार” से लेकर “ठिकानेदारों” के वंशज प्रजा के धन से निर्मित भवनों में शान से सुख भोग रहे हैं | अब इधर से उधर जाने के सुख के साथ अपने अभीष्ट साधने के लिए अपनी नजर राज्य की सर्वोच्च प्रजातांत्रिक पद की आसंदी पर लगाये हुए हैं |पिछले ७ दशको के कई बार ये तत्व सफल भी हुए, उस दौरान उनके मिजाज में कायम “ठसक” ने उन्हें कभी “प्रजातांत्रिक” नहीं होने दिया |

देश में प्रजातंत्र लाने और उसे कायम रखने का श्रेय बखानने वाले राजनीतिक दलों में भी दूर की कौड़ी की तरह प्रजातंत्र दिखता है | किसी एक की रूचि परिवारवाद के चलते मसनद पर ताउम्र मचकने में हैं तो दूसरे की रूचि सन्गठन को मनोनयन से चलाने की है | कोई नहीं चाहता कि दल में आंतरिक प्रजातंत्र कायम हो | कारण साफ़ है कैसे भी उस व्यवस्था पर कब्जा बनाये रखना है जिससे देश के संसाधनों का अपने और अपनों हित में उपयोग किया जा सकें | देश की खरीदी बेचीं जा रही धरोहरे इसका जीता जागता उदहारण है |

इन दिनों देश में जो कुछ घट रहा है, उसे प्रजातंत्र की कसौटी पर कसें तो उत्तर नकारात्मक ही आएगा | देश के एक सूबे में सरकार पलट का खेल किसी महाराजा की अगुवाई में होता है तो दूसरी तरफ से खेल का गोलकीपर कोई राजा होता है | पडौस के सूबे में किसी ठिकानेदार की पीढ़ी ऐसे ही खेल में जोर आजमाती है यहाँ भी किसी रियासत की महारानी अपने फतवे जारी करती रहती है | हद तो यह है संसद और विधानसभा की ओर जाती इन सामन्तो की पालकी को ढोने में जो क्न्धे लगे हैं , वे ७० साल में लहुलुहान हो गये हैं |

भारत में आज तक मतदान की कोई ऐसी निरापद पद्धति इजाद नहीं हो सकी है , जो चुनाव को जाति, धर्म, लोभ लालच और भय से मुक्त कर सके | महल, जागीर और ठिकाने में मतदाता सूची आदेश में बदल जाती है | इन्ही में से एक नई बाहुबली किस्म भी निकलती है, जो उनके वोट न गिरने पर मतदाता को गोली से गिराने की धमकी तक देता है | चुनाव आयोग की जिम्मेदारी बड़ी और महत्वपूर्ण है पर उसके हाथ छोटे हैं | इन हाथों को ताकतवर बनाने में किसी भी राजनीतिक प्रभु की इच्छा नहीं है |

आज देश का प्रजातंत्र महाराजा, राजा जागीरदार और ठिकानेदारों की मसनद के नीचे सिसक रहा है | उसकी आम परिभाषा जनता के लिए जनता के द्वारा जनता का शासन न जाने कहाँ खो गई है | देश में शासकों की इनसे इतर जो नई पौध देश तैयार भी हो रही है, उसके “आइडल” भी महाराजा, राजा, जागीरदार और ठिकानेदार ही है | देश की वर्तमान अवस्था को देखते हए मसनदो पर मचकते लोगों को प्रजातांत्रिक व्यवस्था का प्रशिक्षण जरूरी है और इसी का नाम है व्यवस्था परिवर्तन |
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और टेलीग्राम पर फ़ॉलो भी कर सकते


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here