Loading...    
   


कंप्यूटर बाबा के आश्रम में लड़कियां आती थी, अपराधियों को शरण दी जाती थी: FIR - MP NEWS

इंदौर। मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव 2020 में कांग्रेस पार्टी को फायदा और भारतीय जनता पार्टी को नुकसान पहुंचाने के लिए संत समाज को इकट्ठा करके अभियान चलाने वाले नामदेव दास त्यागी उर्फ कम्प्यूटर बाबा के खिलाफ एक और मामला दर्ज किया गया है। इस FIR में बता बताया गया है कि कंप्यूटर बाबा के आश्रम में नई-नई लड़कियां आती थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए कई अपराधी कंप्यूटर बाबा के आश्रम में छुपे रहते थे। जब आसपास के रहवासियों ने कंप्यूटर बाबा से संदिग्ध गतिविधियों के बारे में बात की तो कंप्यूटर बाबा ने बंदूक अड़ाकर घर में घुसकर लोगों को धमकी दी।

कंप्यूटर बाबा के आश्रम में लड़कियां आती थी, अपराधी फरारी काटते थे

अंबिकापुरी एक्सटेंशन निवासी राजेश खत्री ने पुलिस को बताया, करीब एक महीने पहले मैंने बाबा से मिलकर कहा था कि आश्रम में अनैतिक गतिविधियां हो रही हैं। यहां महिलाओं और बच्चियों को लाया जा रहा है। आपराधिक प्रवृत्ति के लोग यहां फरारी काट रहे हैं। हम परिवार के साथ रहते हैं, यहां ऐसी गतिविधियां नहीं होनी चाहिए। इस पर बाबा ने गाली-गलौज शुरू कर दिया। मैं घबराकर वापस चला गया।

कंप्यूटर बाबा तलवार लेकर 10 साथियों सहित घर में घुस आया था

उसी दिन रात करीब 10 बजे बाबा साथियों के साथ तलवार लेकर घर में घुसे और मेरे साथ मारपीट करते हुए तलवार से हमला किया। वहां मौजूद मेरे दोस्त मुकेश और सुभाष ने बीच-बचाव किया। उन लोगों ने शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी और चले गए। जाते-जाते यह भी कहा कि मैं तुझे और तेरे परिवार की लाश का पता भी चलने नहीं दूंगा। उसने कहा कि डर के मारे मैं थाने नहीं आया, लेकिन अब जब बाबा के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज हो रही है, इसलिए हिम्मत करके आया हूं।

प्रोडक्शन वारंट के बाद बाबा से पूछताछ

बाबा के खिलाफ जातिसूचक शब्दों का उपयोग के मामले में गांधी नगर थाने पर केस दर्ज हुआ था। एसडीएम कोर्ट से अनुमति लेकर बाबा को केंद्रीय जेल में ही गिरफ्तार किया गया। मामले में पूछताछ के लिए प्रोडक्शन वारंट न्यायाधीश बृजेंद्र सिंह की कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट से अनुमति मिलने के बाद अब बाबा से इस मामले में भी पूछताछ की जाएगी। पुलिस की ओर से डीपीओ मोहम्मद अकरम शेख व विमल कुमार मिश्रा उपस्थित हुए थे। इस तरह बाबा पर कुल 3 केस दर्ज हो चुके हैं।

अतिक्रमण की कार्रवाई वाले दिन पंचायत सचिव पर बंदूक तान दी थी

कम्प्यूटर बाबा ने अतिक्रमण हटाने वाले दिन रविवार को जम्बूडी हप्सी ग्राम पंचायत सचिव श्रीराम बारोलिया पर बंदूक तान दी थी। साथ ही, जातिसूचक शब्द भी कहे थे। मामले में बाबा पर गांधीनगर थाने में हरिजन एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया है। साथ ही, उन पर शासकीय काम में बाधा डालने, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट आदि का भी धाराएं लगी हैं।

जमानत याचिका हो चुकी है खारिज

गुरुवार को एसडीएम ने आदेश में बाबा द्वारा दी गई व्यक्तिगत गांरटी को अमान्य करते हुए पांच लाख की बैंक गारंटी व अन्य सुरक्षा कोर्ट में पेश करने पर ही जमानत पर विचार करने की बात कहते हुए दूसरी बार भी याचिका निरस्त कर दी। जमानत खारिज होने के चलते बाबा अभी जेल में ही रहेंगे।

13 नवम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here