Loading...

INDORE NEWS : रिटायर्ड बैंक अफसर को स्लो पॉइजन दे रही थी बहू, गिरफ्तार

इंदौर। बहू द्वारा अपने 68 वर्षीय रिटायर्ड बैंक अफसर ससुर को धीमा जहर देकर जान से मारने की कोशिश के मामले में पुलिस ने बहू और उसकी मां को गिरफ्तार कर लिया। साले और पत्नी के बीच हुई रिकॉर्डिंग सुनने के बाद पति को पत्नी की हरकतों पर शंका हुई थी। उसने पिता का ब्लड टेस्ट करवाया तो जांच रिपोर्ट में पता चला था उन्हें धीमा जहर दिया जा रहा है। इस बात से आहत बेटे ने पत्नी के खिलाफ केस दर्ज करवाया था।  

तिलक नगर निरीक्षक राधा जामोद ने बताया कि 25 फरवरी 2018 को अमित ने थाने पहुंचकर पत्नी के खिलाफ केस दर्ज करवाया था। शिकायत में उसने बताया था कि उसकी पत्नी और सास उसके पिता को खाने में मिलाकर धीमा जहर देकर मारना चाहती हैं। शिकायत के बाद पुलिस ने धारा 328 में प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया। शिकायत के बाद आरोपी पत्नी भावना जबलपुर में मां के साथ रहने लगी। बुधवार को मां और बेटी जिला कोर्ट में सरेंडर करने पहुंची, जहां से पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

लव मैरिज की थी

पुलिस के मुताबिक घटना गोयल नगर स्थित आदिनाथ अपार्टमेंट की है। ससुर 68 वर्षीय रिटायर्ड बैंक अफसर विनोद कमुार श्रीवास्तव (Vinod Kamar Srivastava) हैं। उनका बेटा अमित (Amit Srivastava) और बहू भावना (Bhavana Srivastava) सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। अमित ने पुलिस को बताया कि मई 2010 में उसने भावना से लव मैरिज की थी। 13 अप्रैल 2011 को अमित की मां सुमन का निधन हो गया। इसके बाद से पिता कभी बड़े भाई के पास दिल्ली में तो कभी इंदौर में अमित के पास रहने लगे। बीते दो साल से पिता अमित के पास ही रह रहे थे।

पुलिस को ये जानकारी मिली है कि लव मैरिज करने के बाद अमित और भावना अकेले ही रहते थे। उनकी एक 4 साल की बेटी है। ससुर के आने के बाद से भावना की आजादी छिन गई थी। उस पर ससुर की भी जिम्मेदारी आ गई थी। इससे वह परेशान हो चुकी थी। संभवत: इसलिए उसने ये कदम उठाया। 

रिकॉर्डिंग ऐप से बातचीत सुन पति को हुआ शक

पुलिस के मुताबिक भावना ने मई 2017 में ससुर को खाने में जहरीला पदार्थ मिलाकर देना शुरू किया। उनकी तबीयत खराब रहने लगी। पिता की खराब हालत देख अमित को शंका हुई तो उसने भावना के मोबाइल में रिकॉर्डिंग सॉफ्टवेयर डाल दिया। एक दिन अमित ने भावना और उसके भाई के बीच हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग सुन ली। इसमें भावना ने अपने भाई को बताया था कि वह ससुर को धीमा जहर दे रही है। इसके बाद अमित ने भावना के परिवार के लोगों से बात की तो इसकी पुष्टि हो गई।

एसपी पूर्व अवधेश गोस्वामी ने बताया था कि अमित ने मई 2017 में पुलिस को लिखित आवेदन दिया था। सबूत के तौर पर मोबाइल रिकॉर्डिंग और पिता की टेस्ट रिपोर्ट भी दी थी। उसने आवेदन में यह भी लिखवाया कि पत्नी भावना का व्यवहार पूरे परिवार के प्रति अमानवीय रहा है। पति के आरोपों की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने बीते रविवार को इस मामले में एफआईआर दर्ज की।