Loading...

मॉब लिंचिंग: पुलिस की गाड़ी में जिंदा था युवक, भीड़ के बाद पुलिस ने मारा ? | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। अलवर मॉब लिंचिंग मामले में नया खुलासा हुआ है। अब तक रकबर की मौत के लिए भीड़ को जिम्मेदार माना जा रहा और आरोप था कि यह भीड़ भाजपा द्वारा संरक्षित थी परंतु अब एक नया फोटो सामने आया है। यह वीएचपी के एक नेता ने जारी किया है। इस फोटो में रकबर पुलिस की गाड़ी में जिंदा बैठा हुआ दिखाई दे रहा है। फोटो में वो गंभीर रूप से घायल भी नजर नहीं आ रहा है। अब सवाल यह है कि रकबर की मौत कैसे हो गई। क्या भीड़ के बाद पुलिस ने भी रकबर को बेरहमी से पीटा और पुलिस की पिटाई से रकबर की मौत हुई। 

फोटो जारी होते ही 4 पुलिस वाले अटैच किए

यह फोटो जारी होते ही राजस्थान पुलिस ने उन 4 पुलिस वालों को अटैच कर दिया है जो इस घटना में शामिल बताए जा रहे हैं। पुलिस उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई करेगी परंतु अब उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग उठ रही है। फिलहाल जो सामने आई है, ये रकबर की शायद आखिरी तस्वीरें हैं और ये तस्वीरें वीएचपी के नवल किशोर ने लीं जब रकबर को पुलिस बचा कर ले जा रही थी। 

घायल को लेकर सड़क पर घूमती रही पुलिस

रकबर की ये आखिरी फोटो पुलिस की गाड़ी में ली गई है और सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि पुलिस 3.47 तक उसे सड़क पर घुमा रही थी। इस मामले में अब 4 पुलिसवालों पर कार्रवाई की है। रकबर के भाई का कहना है कि उसके भाई की पिटाई हुई है। वहीं पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी कहती है कि रकबर की मौत पिटाई के चलते अंदरूनी ख़ून बहने से मौत हुई है।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com