INDORE: पुलिस अधिकारी ने 45 केस डायरियां गायब कर दीं | MP NEWS

16 April 2018

इंदौर। करोड़ों की धोखाधड़ी व हाईप्रोफाइल मामलों समेत करीब 45 गंभीर अपराधों की केस डायरियां एमआईजी थाने से गायब होने का मामला सामने आया है। आरोप है कि डायरियां तत्कालीन एएसआई ने गायब की हैं। वह करीब आठ साल से फर्जीवाड़ा कर रहा था। जैसे ही फर्जीवाड़ा उजागर हुआ एएसआई ने तत्कालीन थाना प्रभारियों के जाली हस्ताक्षर कर डायरियां और चालान बनाना शुरू कर दिए। टीआई ने इसके खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज की है।

एसपी ने दोषी के खिलाफ जांच कर प्रकरण दर्ज करने के आदेश दिए हैं। अफसरों ने उन प्रकरणों की जानकारी निकाली जो विवेचना के अभाव में वर्षों से लंबित पड़े थे। रिकॉर्ड से पता चला कि एएसआई संतोष तिवारी करीब 45 प्रकरण दबाकर बैठा है। इन केसों में बरामदगी, बयान, गिरफ्तारी और विवेचना पूर्ण नहीं होने से कोर्ट में चालान पेश नहीं हुए थे। टीआई ने एएसआई के खिलाफ रिपोर्ट डाली और मुलजिमों की तरह नोटिस जारी कर तलब किया।

पूछताछ में एएसआई ने गलती स्वीकार ली। उसने कहा कि वह गुम डायरियां जल्द तैयार कर लंबित अपराधों का निकाल कर देगा। बताया जाता है कि एएसआई ने वर्ष 2013 से 2017 तक पदस्थ रहे थाना प्रभारियों के जाली हस्ताक्षर कर नई डायरियां बनाई और चालान स्वीकृत करवाए। हालांकि अब भी कई मामलों की डायरियां नहीं मिल रही है। इस मामले में एएसआई तिवारी से चर्चा करने का प्रयास किया, लेकिन वे उपलब्ध नहीं हुए।

विभाग से गद्दारी : पद, गोपनीयता और शपथ का उल्लघंन : टीआई सिसोदिया ने जांच कर एएसआई के खिलाफ एसपी को रिपोर्ट भेजी है। इसमें लिखा कि एएसआई ने अनुशासनहिनता की है। वरिष्ठ अफसरों के आदेश का पालन नहीं किया। पुलिस भर्ती के दौरान ली गई शपथ का पालन नहीं किया। उन्होंने पद, गोपनीयत और शपथ से जुड़ी पुलिस रेगुलेशन एक्ट की धारा 64(2)64(3)64(4) का उल्लंघन किया है।

ये थाना प्रभारी भी आए जांच की जद में : कमल जैन, अरविंदसिंह तोमर, राजेंद्र सोनी, एमए सैयद व तारेश सोनी पर लंबित अपराधों की निगरानी में लापरवाही करने का आरोप है।

पेटी में बंद मिली 8 करोड़ की केस डायरी
एएसआई संतोष तिवारी का सदर बाजार तबादला हो चुका था। यहां से भी उन्हें डीआरपी लाइन और फिर धार भेज दिया। टीआई विजय सिसोदिया को खबर मिली कि उनकी थाने में एक पेटी रखी हुई है। उन्होंने रोजनामचे में रिपोर्ट डाली और ठीक उसी तरह पेटी का ताला तोड़ा जैसे मुलजिमों के घर तलाशी लेने पर तोड़ा जाता है। पेटी से 8 करोड़ की धोखाधड़ी की डायरी बरामद हुई। इसमें अनूपनगर निवासी हीरालाल गुप्ता की शिकायत पर दर्ज किए गए अपराध क्रमांक 425/13 की डायरी थी। एएसआई ने आरोपियों से सांठगांठ की और 173(8) में चालान पेश कर मामला दबा दिया। डायरी से महत्वपूर्ण विवादित दस्तावेज भी गायब मिले हैं।

रसूखदारों से मिलकर गायब किए दस्तावेज अपराध क्रमांक 80/16 में फरियादी वीरेंद्र ठाकुर की शिकायत पर रसूखदारों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। एएसआई ने विवादित दस्वावेज गायब कर दिए और विवेचना दबा दी। एसपी के आदेश पर एएसआई राधेश्याम यादव को दोबारा जांच सौंपी गई।

एएसआई के खिलाफ रिपोर्ट मिल चुकी है। विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। इसी के आधार पर बर्खास्तगी और आपराधिक प्रकरण दर्ज करने कार्रवाई की जाएगी। -अवधेश गोस्वामी, एसपी

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->