सभी सरकारी स्कूलों में लगेंगे RO वाटर प्यूरीफायर

Wednesday, July 5, 2017

हरियाणा सरकार ने मंगलवार को कहा कि विद्यार्थियों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए राज्य के सभी स्कूलों में रिवर्स ओसमोसिस (आरओ) जल शोधक प्रणाली स्थापित किया जाएगा। मंगलवार को यहां कैबिनेट बैठक में निर्णय लिया गया कि यह सुविधा अगले साल से शहरी स्कूलों में उपलब्ध कराई जाएगी और बाद में ग्राणीण क्षेत्रों के स्कूलों में इसका विस्तार किया जाएगा। बैठक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य में केंद्र सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजनाओं के विकास की भी समीक्षा की। बैठक में यह भी घोषणा की गई कि सरकारी स्कूलों के छत्तों पर सोलर पैनल स्थापित करने की भी योजना बन रही है। निर्मित सोलर ऊर्जा का उपयोग कंप्यूटर चलाने में किया जाएगा।

पीजीटी शिक्षकों को कार्य आवंटन आदेश जारी 
हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग ने पीजीटी शिक्षकों के कार्य को आबंटित करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए स्कूल शिक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि कक्षा के प्रत्येक सैक्शन मेें 40 विद्यार्थी होंगे। दूसरे सैक्शन में 50 छात्रों की स्वीकृति मिलेगी तथा तीसरा सैक्शन 90 छात्रों की क्षमता के उपरांत ही सृजित किया जाएगा। इसी प्रकार, चौथा सैक्शन 130 विद्यार्थियों की क्षमता के उपरांत ही बनाया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि स्कूल की कुल अवधि 6 घण्टे होगी, जिसमें प्रार्थना के लिए 20 मिनट और आधी छुट्टी के लिए 30 मिनट होंगे। स्कूल के केलेंडर के अनुसार प्रतिदिन आठ पीरियड लगेंगे। पहले चार पीरियड 45 मिनट के होंगे, जबकि अंतिम चार पीरियड 40 मिनट के होंगे। पीजीटी अध्यापकों को दिन में अधिकतम 6 पीरियड कवर करने होंगे और प्रत्येक सप्ताह 36 पीरियड होंगे। 

प्रवक्ता ने बताया कि 9वीं और 10वीं कक्षाओं के पीरियड में अंग्रेजी के पीरियड को पीजीटी अंगे्रजी पढ़ाएगा। यदि अमुक स्कूल में पीजीटी अंग्रेजी उपलब्ध नहीं है तो यह कार्य पीजीटी समाजशास्त्र को दिया जाएगा। गणित का पीरियड गणित का पीजीटी शिक्षक लेगा। यदि पीजीटी गणित का शिक्षक स्कूल में उपलब्ध नहीं है तो पीजीटी फिजिक्स इस कार्य को करेगा। साइंस के विषय को फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बायोलोजी के अध्यापक पढ़ाएंगे। इसी प्रकार, हिंदी विषय को पीजीटी हिंदी पढाएगा, यदि स्कूल में पीजीटी अध्यापक उपलब्ध नहीं है तो इस कार्य को पीजीटी संस्कृत करेगा। उन्होंने बताया कि समाजशास्त्र को अर्थशास्त्र, भूगोल, राजनीतिक विज्ञान, इतिहास, मनोविज्ञान, सोशोलोजी का पीजीटी अध्यापक पढाएगा। इसी प्रकार, संस्कृत, पंजाबी, उर्दू, ड्राइंग, संगीत, गृह विज्ञान के विषयों को सम्बन्धित पीजीटी ही पढ़ाएंगे, जबकि शारीरिक शिक्षा में शारीरिक शिक्षा, डीपीई के अध्यापक पढ़ाएंगे, यदि पीजीटी शारीरिक शिक्षा उपलब्ध नहीं है तो यह कार्य डीपीई निभाएगा।

उन्होंने बताया कि 11वीं और 12वीं कक्षा के पीरियड के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आर्टस में अंग्रेजी के आठ, हिंदी के छ:, इतिहास के आठ, राजनीति विज्ञान के आठ, गणित, भूगोल के आठ, आईसीटी और कम्प्यूटर साइंस के छ:, एजुसैट, लाइबे्ररी, खेल, लाइफ स्किल, श्रमदान, योगा, टीपी तथा अन्य सीसीए के चार पीरियड होंगे। इसी प्रकार, कॉमर्स में अंग्रेजी के आठ, हिंदी के छ:, कॉमर्स, अकाउंटेंसी, इक्रोमिक्स, गणित के आठ, कम्प्यूटर साइंस के छ:, एजुसैट, लाइबे्ररी, खेल, लाइफ स्किल, श्रमदान, योगा, टीपी तथा अन्य सीसीए के चार पीरियड होंगे। 

उन्होंने बताया कि मैडिकल विषय में अंग्रेजी और हिन्दी विषय के छ:, फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बायोलोजी के 10, तथा कम्प्यूटर साइंस के चार, एजुसैट, लाइबे्ररी, खेल, लाइफ स्किल, श्रमदान, योगा, टीपी तथा अन्य सीसीए के चार पीरियड होंगे। इसी प्रकार, नॉन मैडिकल में अंग्रेजी और हिंदी के छ:, फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बायोलोजी के 10, तथा कम्प्यूटर साइंस के चार, एजुसैट, लाइबे्ररी, खेल, लाइफ स्किल, श्रमदान, योगा, टीपी तथा अन्य सीसीए के चार पीरियड होंगे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week