NARENDA MODI की नोटबंदी के कारण 15 लाख लोग बेरोजगार हुए: CMIE

Thursday, July 20, 2017

नई दिल्ली। भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अचानक घोषित की गई नोटबंदी ने कालेधन और आतंकवाद को कितना प्रभावित किया यह तो फिलहाल पता नहीं चल पाया है परंतु CENTER MONITORING INDIAN ECONOMY की ताजा रिपोर्ट यह दावा करती है कि नोटबंदी के कारण भारत में 15 लाख लोग बेरोजगार हुए एवं 60 लाख लोग दो वक्त की ​रोटी के लिए मोहताज हो गए। सेन्टर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के सर्वे के मुताबिक, अगर एक कमाऊ व्यक्ति पर घर के चार लोग आश्रित हैं, तो इस लिहाज से पीएम नरेंद्र मोदी के एक फैसले ने 60 लाख से ज्यादा लोगों के मुंह से निवाला छीन लिया है। सीएमआइई ने अपने सर्वे में हर तिमाही के ‌हिसाब से नौकरियों का आंकड़ा पेश किया है।

सीएमआईआई के कंज्यूमर पिरामिड हाउसहोल्ड सर्वे से पता चलता है कि नोटबंदी के बाद जनवरी से अप्रैल 2017 के बीच देश में कुल नौकरियों की संख्या घटकर 405 मिलियन रह गई थी, जो कि सितंबर से दिसंबर 2016 के बीच 406.5 मिलियन थी। यानी नोटबंदी के बाद नौकरियों की संख्या में करीब 1.5 मिलियन यानी 15 लाख की कमी आई।

सर्वे के मुताबिक, जनवरी से अप्रैल 2016 के बीच युवाओं के रोजगार और बेरोजगारी से जुड़े आंकड़े जुटाए गए थे, जिसमें कुल एक लाख 61 हजार, 168 घरों के कुल 5 लाख 19 हजार, 285 युवकों पर सर्वे किया गया था। सर्वे में कहा गया है कि तब 401 मिलियन यानी 40.1 करोड़ लोगों के पास रोजगार था। यह आंकड़ा मई-अगस्त, 2016 के बीच बढ़कर 403 मिलियन यानी 40.3 करोड़ और सितंबर-दिसंबर, 2016 के बीच 406.5 मिलियन यानी 40.65 करोड़ हो गया। इसके बाद जनवरी से अप्रैल, 2017 के बीच रोजगार के आंकड़े घटकर 405 मिलियन यानी 40.5 करोड़ रह गए। मतलब साफ है कि इस दौरान कुल 15 लाख लोगों की नौकरियां खत्म हो गई हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week