3 साल में 1 दिन भी नौकरी नहीं की, सेलेरी ले ली 36 लाख - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

3 साल में 1 दिन भी नौकरी नहीं की, सेलेरी ले ली 36 लाख

Friday, September 16, 2016

;
रामगोपाल सिंह राजपूत/भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (बीयू) के फिजिक्स डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर महेशचंद्र शाह बीते तीन साल से एक भी दिन अपने छात्रों को पढ़ाने क्लास में नहीं गए। इस दौरान बीयू ने उन्हें बिना पढ़ाए ही वेतन के रूप में 36 लाख रुपए दे दिए। छात्रों को न पढ़ाने पर एसोसिएट प्रोफेसर का तर्क भी अजीब है। वे कहते हैं कि उनका प्रमोशन नहीं हुआ, इसलिए वे क्लास में छात्रों को नहीं पढ़ाते। इधर, छात्रों की शिकायत के बाद भी विवि प्रशासन के अफसर एक-दूसरे को पत्र लिखने में वक्त जाया कर रहे हैं।

एसोसिएट प्रोफेसर शाह की नियुक्ति वर्ष 1985 में हुई थी। उसके बाद से ही इनकी स्थिति ऐसी ही बनी हुई है। अब प्रोफेसर ने क्लास लेना तो दूर डिपार्टमेंट में आना भी छोड़ दिया है। उन्होंने पिछले तीन साल से एक भी दिन क्लास नहीं ली है। छात्रों के मुताबिक प्रोफेसर उनसे कहते हैं कि अगर पढ़ना है, तो उनके घर आ जाओ। घर पर रात 9 से 10 बजे के बीच वे पढ़ा सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक इस संबंध में विवि की एचओडी और विवि प्रशासन के बीच सिर्फ पत्राचार चल रहा है।

एचओडी इसको लेकर विवि प्रशासन को कार्रवाई के लिए पत्र लिख चुकी हैं। इसके बाद विवि प्रशासन ने एचओडी को ही पत्र लिखकर पूछ लिया कि आपने इस संबंध में क्या कार्रवाई की है।

एचओडी बोलीं -मैं कुछ नहीं कह सकती
बीयू के फिजिक्स डिपार्टमेंट की एचओडी साधना सिंह से शाह के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि वे कुछ नहीं बता सकती हैं। इस संबंध में विवि के रजिस्ट्रार से बात करें। उनसे जब पूछा गया कि आपकी भी कोई जिम्मेदारी बनती है, तब भी वे कुछ बताने को तैयार नहीं थीं।

रटा-रटाया जवाब-कार्रवाई की जाएगी
प्रोफेसर के संबंध में लिखित में शिकायत आई है। इसको लेकर जानकारी मंगाई जा रही है। किस कारण से वे क्लास नहीं ले रहे हैं। इसकी जांच भी कराई जाएगी। इसके बाद संबंधित मामले में कार्रवाई होगी।- एचएस त्रिपाठी, रजिस्ट्रार, बीयू

प्रमोशन नहीं दिया, इसलिए नहीं पढ़ा रहा
विवि प्रशासन ने मेरा प्रमोशन 25 साल से नहीं किया है। इसलिए अब मेने विवि प्रशासन से कह दिया है कि मैं जब तक प्रमोशन नहीं होगा, तब तक नहीं पढ़ाउंगा। छात्रों से मैंने कहा है कि वे पढ़ने के लिए मेरे घर पर आ सकते हैं। विवि प्रशासन ने जिन्हें कुछ नहीं आता है, उन्हें प्रोफेसर बना दिया है। -महेशचंद्र शाह, एसोसिएट प्रोफेसर बीयू
  • पत्रकार श्री रामगोपाल सिंह राजपूत नवदुनिया भोपाल में सेवाएं दे रहे हैं। 
;

No comments:

Popular News This Week