जाट लड़की, दलित लड़का: ऑनर किलिंग, SI शहीद | CRIME NEWS | LOVE STORY

09 August 2018

रोहतक। एक ऐसी ऑनर किलिंग का मामला सामने आया है जिसमें लड़की के घरवालों ने पुलिस की सुरक्षा के बावजूद लड़की पर गोलियां बरसाईं। इस हमले को नाकाम करने की कोशिश में एक सब इंस्पेक्टर नरेंद्र शहीद हो गया और लड़की की भी मौत हो गई। लड़की जाट समुदाय से थी जिसको एक दलित युवक से प्यार हो गया था। उसके बाद उसने युवक से 1 साल पहले प्रेम विवाह भी कर लिया था। युवती के परिजन प्रेम विवाह के बाद से ही दंपति की हत्या करना चाहते थे। बताया जा रहा है कि अब सुपारी देकर उसकी हत्या कराई गई है। लड़की जब पुलिस की सुरक्षा के बीच कोर्ट जा रही थी तभी बाइक से आए शार्पशूटर्स ने फायरिंग शुरू कर दी। 

युवती का शव लेने भी कोई नहीं आया
पुलिस महानिदेशक ने मामले को लेकर स्टेटस रिपोर्ट मांगी। वहीं महिला आयोग की टीम  पीजीआई पहुंची। जहां डाक्टरों के पैनल द्वारा पोस्टमार्टम किया गया। युवती के शव को लेकर विवाद, युवती के मायके वालो ने किया शव लेने से इंकार, ससुराल वाले भी शव लेने नहीं पहुंचे पीजीआई, महिला आयोग ने भी युवती के मायके वालों को शव न देने की सिफारिश।

मायके वालों को नहीं मिलेगा शव
प्रेम विवाह करने के बाद से ही युवती के परिजन दंपति की हत्या करने के प्रयास में थे, लेकिन युवक जेल में होने की वजह से वह युवती की हत्या कर पाए। घटना को लेकर युवक के परिजन डरे व सहमे हुए है और यहां तक कि युवती का शव लेने के लिए भी वह पीजीआई नहीं पहुंचे। शव को लेकर पेंच फंसा हुआ है कि आखिर पुलिस शव किसको सौंपे। हालांकि महिला आयोग ने युवती के मायके वालों को शव न देने की सिफारिश की है और इस संबंध में एक पत्र भी जारी किया है। महिला आयोग का कहना है कि युवती के शव पर पहला हक उसके ससुराल वालो का है, अगर वे शव नहीं लेते तो प्रशासन दाह संस्कार कराए, न की उन लोगों को सौंपा जाए, जिन्होंने उसकी हत्या की है।

वारदात के दौरान मारे गए थानेदार का शव पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि युवती व थानेदार को नजदीक से ही गोली मारी गई थी। इस संबंध में आर्य नगर पुलिस ने महिला सिपाही के बयान पर युवती के दत्तक पिता के खिलाफ हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है और इस संबंध में तीन टीमों का भी गठन किया गया।

बताया जा रहा है कि पुलिस ने इस मामले में युवती के परिजनों को भी हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है, लेकिन अभी तक गोली मारने वालो का कोई सुराग नहीं है। लघु सचिवालय के बाहर युवती व थानेदार नरेन्द्र की हत्या के मामले में प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि सुपारी देकर हत्या कराई गई है। हमलावरों के निशाने पर युवती थी, लेकिन उसकी सुरक्षा में तैनात उपनिरीक्षक नरेन्द्र को भी गोलियों का शिकार हो गए।

नाबालिग युवती जाट जाती से संबंध रखती थी और युवक सोमबीर एससी था। इस प्रेम विवाह के बाद से ही उसकी व सिंहपुरा निवासी सोमबीर की हत्या की साजिश युवती के परिजनों ने कई माह पहले ही रच ली थी, लेकिन सोमबीर जेल में होने की वजह से अब परिजनों के सिर्फ युवती थी। वारदात को अंजाम देने से पहले पूरी रेकी की गई थी, जिसकी सीसीटीवी फूटेज मिली है, जिसके आधार पर पुलिस हमलावरों की पहचान करने में जुटी है। पुलिस अधीक्षक जश्रदीप सिंह रंधावा ने जांच टीमों के साथ मीटिंग की और उन्हें जरूरी दिशा निर्देश दिए।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week