ALLDUNIV: मुख्यमंत्री का पुतला फूंकना धर्म विरोधी, नोटिस जारी

Tuesday, June 20, 2017

नई दिल्ली। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने यूपी के मुख्यमंत्री का पुतला फूंकना धर्म विरोधी काम माना है। इसी आधार पर उन्होंने एक छात्रनेता को नोटिस जारी किया है। विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रोफ़ेसर रामसेवक दुबे ने छात्र संघ के उपाध्यक्ष अदील हमज़ा को नोटिस जारी करते हुए कहा है, "मुख्यमंत्री आदित्यनाथ एक महान विचारधारा के चिंतक, प्रखर वक्ता एवं पवित्र मंदिर के धर्माचार्य हैं। उनका इस प्रकार किया गया पुतला दहन का कृत्य असंवैधानिक, अवैधानिक, अधार्मिक, अनाध्यात्मिक और विश्वविद्यालय अनुशासन संहिता का उल्लंघन है। छात्र अदील हमज़ा के 15 अगस्त 2017 तक यूनिवर्सिटी परिसर में प्रवेश पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। हमज़ा पर आरोप है कि उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंकने वाले छात्रों के दल की अगुवाई की।

बीबीसी से बात करते हुए अदील ने ऐसे किसी प्रदर्शन में शामिल होने से इनकार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री एक संवैधानिक पद पर बैठे हैं और वो आलोचना से परे नहीं हैं। हमज़ा ने कहा कि छात्र नेता की हैसियत से छात्रों के मुद्दे उठाने के लिए ज़रूरत पड़ने पर वो मुख्यमंत्री के पुतले फूंकेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें मुस्लिम होने की वजह से निशाना बनाया जा रहा है और यूनिवर्सिटी प्रशासन छात्रों के प्रदर्शन को जबरन धार्मिक रूप देने की कोशिश कर रहा है।

वहीं अपनी कार्रवाई को सही ठहराते हुए प्रफ़ेसर दुबे ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "विश्वविद्यालय में छात्रों का मूल धर्म पढ़ाई है, यहां इसके सिवा किसी अन्य गतिविधि को अनुमति नहीं दी जा सकती है। पुतला दहन या शव यात्रा श्मशान में निकाली जाती है, विश्वविद्यालय में नहीं। इसी विचार से ये कार्य विश्वविद्यालय के धर्म के विरुद्ध है।

जब उनसे कहा गया कि पहले भी कॉलेज परिसरों में नेताओं के पुतले फूंके जाते रहे हैं तो उन्होंने कहा, "मैं अबसे पहले क्या हुआ इसकी ज़िम्मेदारी नहीं लेता, लेकिन में संस्कृत पृष्ठभूमि से हूं और मेरी नज़र में ये कृत्य अधार्मिक है। जब तक विश्वविद्याल का अनुशासन मेरे जिम्मे हैं मैं ऐसा कोई काम यूनिवर्सिटी में नहीं होने दूंगा।

समाजवादी पार्टी से जुड़े वरिष्ठ छात्र नेता अभिषेक यादव ने बीबीसी से कहा, "यूनिवर्सिटी प्रशासन जबरन माहौल को धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहा है। यही नहीं योगी आदित्यनाथ को धर्माचार्य बताकर प्रोफ़ेसर दुबे उन्हें रिझाने की कोशिश कर रहे हैं। उनकी ये चाटुकारिता यूनिवर्सिटी का माहौल ख़राब कर सकती है। एबीवीपी से जुड़े छात्र नेता रिंकू पयासी महानंद ने बीबीसी से कहा, "एबीपीवी छात्रों से जुड़े मुद्दे उठाती रही है। इस मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन जबरन धर्म को बीच में ला रहा है। अदील हमज़ा इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के उपाध्यक्ष बने पहले मुसलमान छात्र हैं।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

 
Copyright © 2015 Bhopal Samachar
Distributed By My Blogger Themes | Design By Herdiansyah Hamzah