MPPSC 2019: भोपाल में बाहरी उम्मीदवारों की ठहरने की व्यवस्था

भोपाल। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा के उम्मीदवारों के लिए गुड न्यूज़ है। यदि आपका परीक्षा केंद्र भोपाल में है और आप भोपाल के बाहर से आ रहे हैं तो आपको रात्रि विश्राम के लिए किसी होटल की तलाश नहीं करनी होगी। भोपाल जिला प्रशासन की ओर से आपके ठहरने का इंतजाम किया गया है। आपको केवल एक मोबाइल नंबर पर अपनी पूरी डिटेल्स देनी है।

सरकार के निर्णय के अनुसार, प्रदेश में पीएससी (MPPSC) की परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों के ठहरने का इंतजाम अब सरकार की जिम्मेदारी है। घर से बाहर दूसरे शहर में जो भी अभ्यर्थी परीक्षा देने जा रहा है, उनके लिए प्रशासन ठहरने का इंतजाम कर रहा है। इसके लिए बाकायदा जिला प्रशासन ने दो फोन नंबर भी जारी किए हैं। इन नंबरों पर कॉल करने के बाद आपके रुकने का सारा इंतजाम और सुरक्षा सरकार करेगी।

भोपाल प्रशासन ने जारी किए नंबर

MPPSC की परीक्षा रविवार यानी 12 जनवरी को होने जा रही है। इसके लिए भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर संभागों में परीक्षा में जिला प्रशासन ने सुरक्षा के इंतजाम किए हैं। सुरक्षा इंतजामों के बाद ऐसा पहली बार हो रहा है जब जिला प्रशासन परीक्षार्थियों के रहने की भी व्यवस्था कर रहा है। जो भी अभ्यर्थी परीक्षा देने के लिए अपने शहर से बाहर जा रहा है और वहां उनका कोई परिजन नहीं है, तो जिला प्रशासन उनके ठहरने की सारी व्यवस्था करेगा। इसके लिए जिला प्रशासन ने 'छू लो आसमान' टीम को जिम्मेदारी सौंपी थी। इसके तहत भोपाल जिला प्रशासन ने दो मोबाइल नंबर-7999749017 और 9399184825 जारी किए हैं। इन नंबरों पर छात्र कॉल कर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के बाद छात्रों के रहने की पूरी व्यवस्था जिला प्रशासन की टीम करेगी।

3 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2019 रविवार को भोपाल के 69 केंद्रों पर होगी। परीक्षा में 31 हजार 88 उम्मीदवार शामिल होंगे। प्रदेशभर में होने वाली MPPSC की परीक्षा के लिए 892 केंद्र बनाए गए हैं, जिन पर 3 लाख 66 हजार 453 उम्मीदवार परीक्षा देंगे। डिप्टी कलेक्टर, डीएसपी सहित 330 प्रशासनिक पदों के लिए यह परीक्षा होने जा रही है। MPPSC के अनुसार इस बार की परीक्षा की खास बात ये है कि परीक्षा के एक माह के भीतर ही रिजल्ट जारी होगा। इसके बाद मुख्य परीक्षा आयोजित होगी।