MP NEWS - साढ़े सात लाख कर्मचारियों का महंगाई भत्ता, शिवराज सरकार ने रोक रखा है

मध्य प्रदेश शासन के 750000 कर्मचारियों का महंगाई भत्ता शिवराज सिंह चौहान सरकार ने रोक रखा है। चुनाव आचार संहिता के बीच में राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कर्मचारियों को 4% महंगाई भत्ता मंजूर किया जा चुका है परंतु मध्य प्रदेश मेंइस पर रोक लगा दी गई थी। चुनाव आयोग ने केवल मतदान के दिन तक महंगाई भत्ते पर रोक लगाई थी परंतु सरकार ने मतदान के बाद भी महंगाई भत्ता के मामले में कोई पहल नहीं की है। 

चुनाव आयोग ने केवल वोटिंग की तारीख तक महंगाई भत्ता पर रोक लगाई थी

कर्मचारी-अधिकारी संगठनों का कहना है कि सरकार जानबूझकर कर्मचारियों को मिलने वाले भत्तों के भुगतान में देरी कर रही है। चुनाव आयोग ने मतदान के दिन तक भत्ते के भुगतान पर अस्थायी रोक लगाई थी। लेकिन, प्रदेश सरकार ने इसके बाद भी भत्ता दिए जाने को लेकर कोई कवायद नहीं की है। आयोग के अस्थायी रोक के बाद सरकार भत्ते के भुगतान के लिए सीधे आदेश जारी कर सकती है। इसके अलावा इस मामले में और स्पष्ट अभिमत लेने के लिए सरकार चुनाव आयोग को दोबारा पत्र लिखकर मार्गदर्शन मांग सकती है। दोनों ही काम राज्य सरकार के वित्त विभाग ने नहीं किए हैं। इससे कर्मचारियों का नुकसान हो रहा है। पहले भी सरकार महंगाई भत्ते की पूरी राशि का भुगतान नहीं करती रही है।

सिर्फ मध्य प्रदेश के कर्मचारियों को 4% कम महंगाई भत्ता मिल रहा है

लाखों कर्मचारियों के एरियर्स की राशि नहीं दी जा रही है। इन कर्मचारियों को सातवें वेतनमान में अब तक 42 प्रतिशत महंगाई भत्ता मिल रहा है। चार प्रतिशत डीए देने के केंद्र सरकार के 20 अक्टूबर के फैसले के बाद अब केंद्र के कर्मचारियों की तरह एमपी के कर्मचारियों को 46 प्रतिशत महंगाई भत्ता मिलना है, जिसके लिए एक माह से इंतजार करना पड़ रहा है।

राजस्थान, छत्तीसगढ़ में भुगतान को आयोग की मंजूरी

कर्मचारियों को महंगाई भत्ते की राशि का भुगतान करने के लिए चुनाव आयोग से मांगी गई अनुमति के आधार पर राजस्थान में मतदान के पहले ही परमिशन मिल गई थी। वहीं छत्तीसगढ़ सरकार को आयोग ने दो दिन पहले अनुमति देकर भत्ते की राशि के भुगतान के लिए कहा है। 

 पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें  ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें। ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है। 

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !