Showing posts with label religious. Show all posts
Showing posts with label religious. Show all posts

धनतेरस की कथा: इसलिए शुरु हुई सोना खरीदने की परंपरा

Monday, October 16, 2017

दीपावली के त्योहार से दो दिन पहले के दिन को धनतेरस कहा जाता है। धनतेरस संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है। पहला शब्द है धन और '...

सफलता चाहिए तो राशि के अनुसार चुनें स्टार्टअप

लोग रोजगार का चुनाव सुलभता और सहूलियत के हिसाब से चुनते हैं। यही कारण है कि वो उतनी सफलताएं ​अर्जित नहीं कर पाते जिसके वो योग्य हैं जबकि क...

धनतेरस का मुहूर्त एवं खरीदी के लिए दिशा निर्देश

धनतेरस पर्व इस साल 17 अक्टूबर को मनाया जाएगा। त्रयोदशी तिथि 16 अक्टूबर रात साढ़े 12 बजे आरंभ होगी जबकि 17 अक्टूबर को रात 12 बजकर 9 मिनट तक...

दीपावली में ये गलती भूलकर भी न करें

Sunday, October 15, 2017

दीपावली त्यौहार का जुनून सर चढ़कर बोलने लगा है। बाजार सज गये है। घर की साफ सफाई जोरों पर है। इस महापर्व की महाजिम्मेदारी घराडियो अर्थात घर...

शुभ और लाभ चाहिए तो राशि के अनुसार करें लक्ष्मी पूजन

Saturday, October 14, 2017

दीपावली भारत का सबसे बड़ा त्यौहार है। इसे हर वर्ग मनाता है। यह उल्लास और उत्सव की रात्रि है। आतिशबाजी, मेल मिलाप, प्रदर्शन और पकवान के अला...

बुध-शुक्र का राशि परिवर्तन: सिर्फ 3 राशियों को नुकसान, 9 को मिलेगा फायदा

बुद्धि व्यापार तथा संचार के स्वामी बुध महाराज अपनी उच्च राशि से तुला राशि मे आ चुके है। तुला राशि मे देवगुरु बृहस्पति पहले से ही विद्यमान ...

लक्ष्मीजी की कृपा के लिए धनतेरस और दिवाली के दिन कीजिए ये आसान उपाय

इस बार 17 अक्टूबर मंगलवार को धनतेरस और 19 अक्टूबर गुरुवार को दीपावली का त्योहार मनाया जाएगा। धनतेरस के दिन कुबेर देवता का पूजा की जाती है ...

धनतेरस के दिन ये वस्तुएं भूलकर भी ना खरीदें

Friday, October 13, 2017

दिवाली से पहले धनतेरस पर पूजा का विशेष महत्व होता है और इस दिन धन और आरोग्य के लिए भगवान धन्वंतरि पूजे जाते हैं. इस दिन कुबेर की पूजा की ज...

छोटी दीवाली: दरिद्रता जाती है और लक्ष्मी आतीं हैं

हिन्दुओं के प्रमुख त्योहार दीपावली का उत्सव 5 दिनों तक चलता है। दीवाली का त्योहार धनतेरस के पूजन से शुरू हो जाता है और इसी के साथ पांच दिन...

DIPAWALI: आपकी राशि के लिए पूजा के विशेष उपाय यहां पढ़ें

हम सभी जानते है की दीपावली अमावस्या के दिन मनाई जाती है। इस दिन सूर्य अपनी नीच राशि तुला तथा चंद्रमा भी इस समय तुला राशि मे रहता है। यह स्...

दीपावली की 5 प्राचीन कथाएं, जिन्हे पढ़ना अनिवार्य है

क्या आप जानते है कि दीपावली को मनाने के पीछे क्या कारण है दीपावली को मनाने के पीछे कई कारण प्रचलित हैं  पहली कथाः  एक बार की बात है, एक बा...

कैसे करें दीपावली पर पूजन की तैयारी

Thursday, October 12, 2017

दीपावली को सिर्फ एक त्यौहार कहना गलत होगा. दीपावली तो पांच पर्वों का अनूठा संगम है. इसमें पहला दिन धनतेरस, दूसरा नरक चतुर्दशी, तीसरा और मह...

दीपावली: मध्यरात्रि लक्ष्मीपूजा 18 को होगी, प्रदोष काल पूजा 19 को

इस बार दीपावली पर्व 19 अक्टूबर को मनाया जा रहा है। इन दिन गुरूवार है परंतु गुरूवार से जो रात्रि प्रारंभ होगी उसमें अमावस्या नहीं है अत: जो...

मंगल का राशि परिवर्तन: इन 5 राशियों के लिए खतरनाक

13 तारीख को भूमीपुत्र, युद्ध के देवता मंगल महाराज कन्या राशि मे पहुंच रहे हैं। मिथुन और कन्या दोनो राशि मंगल ग्रह के लिये अशुभ है। शत्रु र...

मालामाल कर देगी 2017 की दीपावली पूजा, गुरु चित्रा संयोग और मंगलकारी मुहूर्त

इस बार दीपावली का त्योहार 19 अक्टूबर 2017 को मनाया जाएगा। इस बार 19 अक्टूबर दीपावली के दिन कई संयोग एक साथ बन रहे हैं जैसे कि दीपावली इस ब...

देवी लक्ष्मी को कमल पुष्प अर्प‌ित करने से क्या फल प्राप्त होता है, यहां पढ़िए

Wednesday, October 11, 2017

पुराणों में देवी लक्ष्मी का एक नाम कमला और कमलासना है यानी कमल पर व‌िराजमान रहने वाली। कमल पुष्प की खूबी है क‌ि वह कीचड़ में उत्पन्न होकर ...

इस बार अशुभ है पुष्य नक्षत्र, कृपया खरीददारी ना करें

इस बार पुष्य नक्षत्र 13 अक्तूबर को दिन मे 11:11 बजे से लेकर 14 अक्टूबर को सुबह 9:37 बजे तक है। दीपावली से पहले पुष्य नक्षत्र मे व्यापारी ब...

वास्तु: सोते समय तकिया के पास क्या रखें क्या ना रखें

वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ चीजें ऐसी हैं जिसे सोते समय तकिया के पास नहीं रखना चाहिए। सोते वक्त अपने आस-पास कुछ वस्तुओं को पास रखना परेशा...

शुक्र का राशि परिवर्तन: 3 राशियों के लिए अशुभ, बाकी सबको आनंददायक

Tuesday, October 10, 2017

आज यानी 10 अक्टूबर से शुक्र महाराज कन्या शुक्र की नीच राशि मे आ गये हैं। इस समय कन्या राशि मे शुक्र बुध तथा सूर्य पहले से ही है। 13 तारीख ...

कब करें दीपदान की हर मनोरथ पूरा हो जाए

प्राचीन काल से वर्षा ऋतु में संत साधु गांव या नगर मे चातुर्मास के लिये रुकते थे जिससे उनके ज्ञान, तप तथा आद्यात्म का लाभ सभी लोगों को मिलत...

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week