पद्मावत: हिंसा और जौहर की धमकी के बाद कोर्ट जाएगी करणी सेना | NATIONAL NEWS

Friday, January 19, 2018

नई दिल्ली। संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत (CONTROVERSIAL FILM PADMAVAT) को रोकने के लिए श्रीराजपूत करणी सेना (SHRI RAJPUT KARNI SENA) हर संभव प्रयास कर रही है। गुजरात चुनाव के दौरान BJP का साथ मिलने के बाद करणी सेना के पदाधिकारियों ने हिंसा की धमकियां दीं थीं। सेंसर बोर्ड जब फिल्म को सर्टिफिकेट देने जा रहा था तब महिलाओं ने जौहर की धमकी दी लेकिन सब बेअसर रहा। 4 राज्यों ने राजपूत वोटों के लालच में फिल्म पर BAN लगाया तो सुप्रीम कोर्ट (SUPREME COURT) ने बैन हटा दिया। करणी सेना ने देश भर में ‘जनता कर्फ्यू’ की धमकी दी लेकिन...। अब करणी सेना लोकतांत्रिक तरीके अपनाने जा रही है। वो सुप्रीम कोर्ट के फैसले को डबल बेंच में चुनौती देने वाली है। इसके अलावा, राजपूत की महिलाएं राष्ट्रपति से गुहार लगाएंगी। 

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को ही फिल्म को 25 जनवरी को रिलीज करने को हरी झंडी दिखाते हुए राजस्थान सहित चार राज्यों में इस पर रोक लगाए जाने को गलत ठहराया था। उसी के बाद से राजपूत समाज में तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। करणी सेना सहित विभिन्न राजपूत संगठनों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बावजूद प्रदेश में फिल्म के प्रदर्शन का विरोध करने का ऐलान किया है। करणी सेना के लोकेन्द्र सिंह कालवी और सुखदेव गोगामेड़ी ने फिल्म के प्रदर्शन का विरोध किया है। 

कालवी का कहना है कि राजस्थान के छविगृह मालिकों ने पहले ही हमें लिखकर दे रखा है कि वे अपने यहां फिल्म को प्रदर्शित नहीं करेंगे। इसके बावजूद अगर वे फिल्म प्रदर्शित करते हैं तो हम ‘जनता कर्फ्यू’ से इसे रोकेंगे। करणी सेना ने कहा है कि वह इस आदेश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय की डबल बेंच में याचिका दायर कर फिल्म पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने की मांग भी करेगी। 

एक वीडियो संदेश में संगठन के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने कहा कि फिल्म पर प्रतिबंध लगाने के लिए वे लोग राष्ट्रपति से मिलने की कोशिश भी करेंगे। उन्होंने कहा कि वे इस फिल्म का प्रदर्शन नहीं होने देंगे।महिलाओं ने उनसे दो कदम आगे आकर विरोध जताया है। राजपूत सभा की सदस्य हेमेन्द्र कुमारी एवं रामवती कंवर ने फिल्म के प्रदर्शन को राजपूतों का अपमान बताया और कहा कि अब वे जौहर नहीं करेंगी बल्कि फिल्म बनाने वाले संजय लीला भंसाली को ही जौहर कराएंगी यानी उसका पुतला जलाएंगी।

दोनों का कहना था कि फिल्म पर रोक लगाने के लिए राजपूत महिलाओं का एक शिष्टमंडल जल्द ही दिल्ली जाकर राष्ट्रपति से मिलेगा और राजपूतों के इतिहास से छेड़छाड़ करने वाली फिल्म पर रोक लगाने का अनुरोध करेगा। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week