मप्र में एक मंदिर एक श्मशान: श्योपुर आएंगे मोहन भागवत | MP NEWS

Thursday, January 18, 2018

भोपाल। मप्र में एक मंदिर एक श्मशान और एक ही जलस्थान की मांग को लेकर राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (RSS) श्योपुर (SHEOPUR) में एक विशाल कार्यक्रम करने जा रहा है। इस आयोजन का नाम हिंदू संगम (HINDU SANGAM) रखा गया है। लक्ष्य तय किया गया है कि इसमें 2 लाख दलित एवं आदिवासियों की उपस्थिति सुनिश्चित की जाएगी। कहा जा रहा है कि यह चुनाव से पहले BJP के लिए दलित एवं आदिवासियों (DALIT TRIBAL) को वोट जमा करने की तैयारी है। पिछले दिनों मप्र के विदिशा में संघ की समन्वय बैठक हो चुकी है। माना जा रहा है ​कि संघ ने अपने सभी अनुषांगिक संगठनों को एक टारगेट की तरफ फोकस करने के लिए कह दिया है। 

हिंदू संगम के माध्यम से दलित और आदिवासियों को जोड़ने का काम संघ अर्से से करता आ रहा है। इससे पहले वह झाबुआ, बैतूल और मंडला में भी इसी तरह के आयोजन कर चुका है। हिंदू संगम में संघ और उसके नेताओं का मूल फोकस आदिवासी और दलित वर्ग के लोगों पर होता है। इस बार 18 फरवरी को होने वाले हिंदू संगम में संघ ने दो लाख लोगों को जमा करने का लक्ष्य रखा है। यहां सामाजिक समरसता को लेकर संघ के नारे एक मंदिर, एक श्मशान और एक जलस्थान का नारा बुलंद किया जाएगा। सम्मेलन में पूरे प्रदेश से लोगों को ले जाने के लिए भाजपा नेताओं को अभी से जिम्मेवारी दी जा रही है। इसे लेकर एक बैठक भी श्योपुर में हो चुकी है।

BSP की ताकत कम करने पर फोकस
ग्वालियर-चंबल में अर्से से बसपा का प्रभाव रहा है। बसपा यहां से सीटे भले ही कम जीत पाए पर दलित-आदिवासी वोटों पर उसकी गहरी पकड़ है। पिछले विधानसभा चुनाव में बसपा दिमनी और अम्बाह सीट पर जीती थी तो सुमावली, भिंड और श्योपुर में उसके प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे थे। इसके अलावा इलाके की आधा दर्जन सीटों पर उसके उम्मीदवारों को खासे मत मिलने से भाजपा का राजनीतिक गणित गड़बड़ा गया था।

34 संगठन जुटे तैयारियों में
हिंदू संगम के लिए संघ ने अपने सभी 34 अनुषांगिक संगठनों के प्रमुख पदाधिकारियों को काम पर लगा दिया है। सूत्रों की माने तो 26 जनवरी के बाद इन संगठनों के नेताओं की भाजपा नेताओं के साथ बैठक होगी। इसमें चुनावी साल में होने वाले इस आयोजन के एजेन्डे को अंतिम रूप दिया जाएगा।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week