CM शिवराज की सभा के बाद राघौगढ़ में चुनावी हिंसा, तोड़फोड़, कफ्यू | MP NEWS

Saturday, January 13, 2018

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का गृहक्षेत्र गुना जिले के राधौगढ़ से चुनावी हिंसा की खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि यहां सीएम शिवराज सिंह चौहान की सभा के बाद भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता आमने सामने आकर हिसंक हो गए। दोनों पार्टियों के नेताओं ने एक दूसरे पर हमले किए। आधी रात तक पथराव और तोड़फोड़ की घटनाएं होती रहीं। पूरे इलाके में पुलिस तैनात कर दी गई है एवं रात में कफ्यू घोषित कर दिया गया था। कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह और बेटे जयवर्धन सिंह ने मोर्चा संभाला हुआ है जबकि भाजपा की तरफ से चाचौड़ा विधायक ममता मीना मैदान में हैं। 

सीएम शिवराज सिंह चौहान राधौगढ़ में भाजपा की ओर से अध्यक्ष पद की प्रत्याशी माया अग्रवाल के समर्थन में प्रचार कर रहे थे। तभी सभा में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हंगामा मचाया और दोनों दलों के समर्थकों में विवाद होने लगा। जानकारी के मुताबिक रात 12 बजे पथराव भी हुआ, इसके बाद पुलिस ने हवाई फायर कर उपद्रव करने वालों को खदेड़ा। स्थिति को संभालने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

बताया जा रहा है कि विवाद की शुरुआत असामाजिक तत्वों के देर रात को बंद पड़ी दुकानों के बाहर लाठियों से तोड़फोड़ करने से शुरू हुआ। इसके बाद तनाव फैलना शुरू हो गया और भाजपा व कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। इस दौरान जमकर पथराव और तोड़फोड़ हुई। दोनों पक्षों में हुए टकराव में चार लोग घायल हो गए। राघौगढ़ में तनाव को देखते हुए जिला मुख्यालय के अलावा आसपास के इलाकों से भी अतिरिक्त पुलिस को तैनात किया गया है। पूरे राघोगढ़ में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल लगाए गए है।

विवाद के दौरान कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय सिंह के बेटे और स्थानीय विधायक जयवर्धन सिंह सामने आए और उन्होंने थाने का घेराव कर दिया। इस दौरान भाजपा की तरफ से नजदीक की विधानसभा सीट चांचौड़ा से विधायक ममता मीणा ने भी मोर्चा संभाल लिया। देर रात विवाद बढ़ने के बाद जयवर्धन सिंह के समर्थन में उनके चाचा और सीनियर कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह भी राघौगढ़ पहुंच गए थे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week