हॉस्टल में छात्राओं को कपड़े उतारकर पीटा जाता था | MP NEWS

Saturday, December 2, 2017

बड़नगर/उज्जैन। बड़नगर के शासकीय बालिका छात्रावास के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। 97 छात्राओं के इस हॉस्टल में छात्राओं ने कलेक्टर के सामने प्रस्तुत होकर शिकायत की है कि उन्हे प्रताड़ित किया जाता है। पैसे वसूले जाते हैं और विरोध करो तो कपड़े उतारकर पीटा जाता है। छात्राओं ने सेनेटरी नैपकीन, साबुन जैसे सामान के लिए भी पैसे वसूले जाते हैं। कलेक्टर ने लगातार 6 घंटे तक मामले की जांच कराई और सहायक वार्डन रत्ना जॉनी को सस्पेंड कर दिया। अब मामले की उच्च स्तरीय जांच चल रही है। मामला सर्वशिक्षा अभियान अंतर्गत बड़नगर तहसील में 11 साल से संचालित शासकीय बालिका छात्रावास का है। 

यहां 15 से 16 वर्ष की 97 छात्राएं रहती हैं। यहां वार्डन के रूप में 4 माह पहले पदस्थ हुईं सहायक अध्यापक प्रगति बैरागी ने चार दिन पहले कलेक्टर, एसडीएम, जिला शिक्षा अधिकारी को लिखित शिकायत की थी। इस पर कलेक्टर ने जांच दल गठित किया था।

6 घंटे तक चली जांच
शुक्रवार को नायब तहसीलदार शिवानी श्रीवास्तव, आरके साकेत व अन्य अधिकारियों ने छात्रावास पहुंच कर्मचारियों और बालिकाओं के बयान लिए। अधिकारियों के अनुसार छात्राएं सहमी हुई थीं। बाद में बताया कि उन्हें कपड़े उतारकर पीटा जाता है, पैसे लिए जाते हैं। कुछ बोलने पर प्रताड़ित किया जाता है। 6 घंटे चली जांच और बयान प्रक्रिया के बाद अधिकारियों ने कलेक्टर को रिपोर्ट सौंपी। इस पर कलेक्टर ने सहायक वार्डन रत्ना जॉनी को तत्काल हटाया और उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए।

वॉर्डन बदलने के बाद खुली पोल
उज्जैन में राज्य शिक्षा केंद्र के 12 शासकीय छात्रावास हैं। वित्तीय अनियमितता, छात्राओं के शोषण और नियम विरुद्ध वार्डनों की नियुक्ति की शिकायत जिला पंचायत के उपाध्यक्ष भरत पोरवाल ने कलेक्टर को की थी। शिकायत के बाद सभी छात्रावासों के वार्डन बदल दिए थे। वॉर्डन बदलने के बाद बड़नगर के छात्रावास में हो रही अनियमितता की पोल खुली।

छात्राओं के भी यह भी आरोप
जमीन पर गिरा भोजन भी परोस देते हैं और कभी-कभी बासी रोटियां भी।
कई मर्तबा खाने में कीड़े और कंकर निकलते हैं।
हफ्ते में केवल दो बार नहलाते हैं।
शिकायत करो तो मिर्ची वाली सब्जी दी जाती है जिससे छाले हो जाते हैं।

कानूनी कार्रवाई भी करेंगे
जिला शिक्षा अधिकारी और एसडीएम की रिपोर्ट पर सहायक वॉर्डन रत्ना जॉनी को हटाने और शिकायत की उच्च स्तरीय जांच कराने के आदेश दिए हैं। आरोप सही साबित होने पर संबंधित के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। 
संकेत भोंडवे, कलेक्टर

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं