पाकिस्तान के प्राचीन कटासराज मंदिर से मूर्तियां गायब, तालाब सूखा | HINDU TEMPLES IN PAKISTAN

Wednesday, December 13, 2017

नई दिल्ली। पाकिस्तान में स्थित हिंदुओं का एतिहासिक मंदिर  श्री कटासराज मंदिर, जहां भगवान शिव के अश्रुओं से तालाब बन गया था, भ्रष्टाचारियों का शिकार हो गया। इस तालाब की मूर्तियां गायब कर दी गईं और तालाब को सुखा दिया गया। बता दें कि यह पाकिस्तान स्थित कटासराज मंदिर सारी दुनिया में हिंदुओं की आस्था का प्रतीक है। शैव सम्प्रदाय के हिंदू जिन्हे शिवभक्त भी कहते हैं, अपने जीवन में कम से कम एक बार कटासराज मंदिर आना जरूर चाहते हैं। 

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस साकिब निसार ने मंदिर के तालाब के सूखने पर स्वत: संज्ञान लेते हुए अधिकारियों से पूछा है, ‘क्या मूर्तियां भी संभाल कर रखी हैं या उन्हें भी कहीं और विस्थापित कर दिया।’ कोर्ट ने कहा कि ठोस कार्रवाई होने तक इस मामले को नहीं छोड़ेंगे। सुनवाई के दौरान इवैकुई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के वकील ने मौजूदा हालात के लिए बोर्ड के पूर्व चेयरमैन आसिफ हाशमी को जिम्मेदार बताया। 

वकील ने कोर्ट को बताया कि हाशमी ने भ्रष्टाचार के जरिये लाखों रुपये बनाए और देश छोड़ कर भाग गया। इस पर जज ने कहा कि हाशमी को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया। पाकिस्तान के अखबारों ने तालाब के सूखने का कारण उसके पास स्थित सीमेंट कारखानों द्वारा भारी मात्रा में भूजल दोहन करना बताया है।

चीफ जस्टिस निसार की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने मंगलवार को सुनवाई के बाद तालाब के पास वाले कारखानों को ‘विध्वंसक’ करार दिया। साथ ही पीठ ने उन सीमेंट फैक्ट्रियों का ब्योरा भी मांगा है। मामले में पेश पंजाब प्रांत के सरकारी वकील ने अदालत को तालाब के पास के सीमेंट कारखानों का ब्योरा दिया। मुख्य न्यायाधीश ने निचली अदालतों को इस मामले से जुड़ी किसी भी याचिका पर सुनवाई न करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने पिछले महीने सुनवाई में कहा था कि कटासराज मंदिर पर कोई समझौता नहीं होगा। पीठ ने इसकी जांच के लिए सरकार को एक समिति गठित करने का निर्देश दिया था। 

कटासराज मंदिर
कटासराज पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के चकवाल जिले में स्थित हिंदुओं का प्रसिद्ध मंदिर है। यह 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। ‘कटास’ संस्कृत शब्द कटाक्ष का अपभ्रंश है, जिसका अर्थ है ‘अश्रुपूर्ण आंखें।’ मान्यता के अनुसार भगवान शिव की पत्नी सती की मृत्यु पर शिव के रोने के कारण कटासराज मंदिर परिसर में आंसू का तालाब बन गया था। वर्ष 2005 में अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी कटासराज मंदिर भी गए थे और पाकिस्तान सरकार द्वारा शुरू किए गए मंदिर के संरक्षण कार्य का उद्घाटन भी किया था।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week