Guru Nanak Dev University: फिर स्थगित हुईं परीक्षाएं

Wednesday, December 13, 2017

जालंधर। गुरु नानक देव विश्वविद्यालय अमृतसर (GNDU) की तरफ से एक बार फिर से जारी किए गए नोटिफिकेशन (NOTIFICATION) में 13 और 14 दिसंबर को होने वाली परीक्षाओं को रद्द (EXAM POSTPOND) कर दिया गया है। हालांकि हाल ही में पिछले 7 दिसंबर को भी गुरु नानक देव विश्वविद्यालय अमृतसर ने नोटिफिकेशन जारी कर 8, 9 और 16 दिसंबर की परीक्षाएं रद्द की थीं। अब मंगलवार को जारी किए गए नोटिफिकेशन में 13 और 14 दिसंबर की होने वाली ड्रग्स एब्यूज (DRUG ABUSE THEORY AND PRACTICAL EXAM PAPER ) की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है। 

दैनिक सवेरा टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार अभी गुरु नानक देव विश्वविद्यालय अमृतसर की तरफ से कोई भी नोटिफिकेशन जारी नहीं हुआ है कि 13 व 14 दिसंबर की परीक्षा कब होनी है। चुनावों को मद्देनजर रखते हुए इसका मुख्य कारण निगम चुनाव की रिहर्सल बताया जा रहा है। इसमें कालेजों के स्टाफ  की ड्यूटियां लगाई गई हैं। उस वक्त यह सवाल खड़ा होता है कि विद्यार्थियों को इसके बारे में कैसे बताया जाए और प्रत्येक कालेज में ऐसी सुविधाएं नहीं होतीं जिसके द्वारा सभी को सूचित किया जा सके। 

नोटिफिकेशन जारी करने में इतनी देरी क्यों
परीक्षा के मध्य चुनाव होने के कारण एक बार फिर 13-14 दिसंबर की परीक्षा स्थगित कर दी गई। हालांकि 11 दिसंबर को ही यह सुगबुगाहट शुरू हो गई थी कि चुनाव रिहर्सल के कारण 13-14 की परीक्षा स्थगित हो सकती है लेकिन यूनिवर्सिटी की तरफ से कोई भी नोटिफिकेशन जारी नहीं हुआ लेकिन 12 तारीख यानी मंगलवार को दोपहर 2 बजे यूनिवर्सिटी की तरफ से परीक्षा को स्थगित करने का नोटिफिकेशन जारी किया गया। आखिर जब यूनिवर्सिटी को पहले से ही पता था कि चुनाव रिहर्सल होगी तो नोटिफिकेशन जारी करने में इतनी देरी क्यों की गई।

परीक्षा में विलंब होने से मैं काफी निराश हूं : हिना 
डी.ए.वी. कालेज के बी.ए.जे.एम.सी. तृतीय वर्ष की छात्र हिना का कहना है कि मैं डी.ए.वी. कालेज में पत्रकारिता और जन संचार की परीक्षा दे रही हूं। निगम चुनावों में कालेज टीचिंग स्टाफ की नियुक्ति के चलते गुरु  नानक देव यूनिवर्सिटी की सैमेस्टर परीक्षा में विलंब होने से मैं काफी निराश हूं। हमारी दो परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं एवं जनवरी तक स्थगित कर दी गई हैं, जिसकी वजह से हमारे आने वाले सैमेस्टर में हमें पढ़ने के लिए कम समय मिलेगा और इसके चलते हमें काफी कठिनाई का सामना भी करना पड़ सकता है।

परीक्षा स्थगित होने के कारण उन्हें फिर दोबारा तैयारी करनी पड़ेगी
13 दिसंबर को बी.ए. प्रथम वर्ष की ड्रग्स एब्यूज की परीक्षा थी। यह विषय यूनिवर्सिटी द्वारा पहली बार शामिल किया गया है। प्रथम बार होने के कारण विद्यार्थियों को इसकी तैयारी करने में भी मुश्किल हुई क्योंकि इसका स्टडी मैटीरियल भी अभी इतना नहीं है। अब जब विद्यार्थियों द्वारा जैसे तैसे इसकी तैयारी की गई तो परीक्षा स्थगित होने के कारण उन्हें फिर दोबारा से इसकी तैयारी करनी पड़ेगी जिसकी निर्धारित तिथि भी उन्हें मालूम नहीं कि यह परीक्षा अब कब होगी। इस कारण उन्हें ज्यादा परेशानी हो रही है।

परीक्षाओं की तारीख के आगे बढ़ने से हमें नुक्सान हो रहा है : श्रवण गुलाटी 
डी.ए.वी. कालेज के बी.बी.ए. तृतीय के छात्र श्रवण गुलाटी का कहना है कि परीक्षाओं की तारीख के आगे बढ़ने से हमें नुक्सान तो हो ही रहा है क्योंकि अब तस्वीर साफ नहीं हो रही कि आखिर पेपर खत्म कब होंगे, 13 और 14 के जो पेपर की तारीख आगे बढ़ी है वो पेपर कब होंगे, इसके बारे में यूनिवर्सिटी ने अभी तक कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है जिससे आशंका का माहौल पैदा हो गया है लेकिन दूसरी तरफ यह राहत है कि अब अगले पेपर की तैयारी में हमें अधिक समय मिल जाएगा, पहले अकाऊंटिंग के पेपर में कम छुट्टियां थीं जो अब अब बढ़ कर 6 हो गई है, अब तैयारी अच्छी हो जाएगी।

अब विद्यार्थियों को जनवरी तक इंतजार करना पड़ेगा  
इसके अलावा बी.बी.ए. तृतीय सैमेस्टर एवं बी.ए.जे.एम.सी. तृतीय वर्ष की तो दो-दो परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं। जिन विद्यार्थियों की अगले 2 दिन में परीक्षाएं समाप्त हो जानी थीं। उन्हें अब जनवरी तक इंतजार करना पड़ेगा। उनकी कई योजनाएं जैसे किसी कम्पीटेटिव परीक्षा की तैयारी, घूमने जाने या अन्य योजनाएं सभी इसके कारण बीच में ही रह जाएंगी। हालांकि चुनाव देश का भविष्य तय करते हैं लेकिन विद्यार्थियों के भविष्य से खिलवाड़ करके कौन सा भविष्य तैयार किया जा रहा है।

बार-बार परीक्षा को स्थगित करना बच्चों के हित में नहीं है : प्रो. शरद मनोचा
डी.ए.वी. कालेज स्टाफ सैकेंडरी प्रो. शरद मनोचा का कहना है कि बार-बार परीक्षा को स्थगित करना बच्चों के हित में नहीं है, विद्यार्थी अपनी परीक्षा की तैयारी करते हैं और एक दिन पहले उन्हें पता चलता है कि परीक्षा स्थगित हो गई है। परीक्षा के मध्य चुनाव कराने से बच्चों की मेहनत से खिलवाड़ हो रहा है। सरकार को भली-भांति मालूम था कि दिसंबर माह में यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं होती हैं तो उन्हें चुनाव परीक्षा से पहले या बाद में करवाने चाहिए थे लेकिन सरकार द्वारा इस तरफ बिल्कुल ध्यान नहीं दिया गया। कालेज स्टाफ को भी परीक्षा एवं चुनाव ड्यूटी दोनों तरफ सामंजस्य बिठाना पड़ रहा है। विद्यार्थी अलग से परेशान हो रहे हैं। सरकार बच्चों की पढ़ाई की तरफ़ संजीदा नहीं है, यह बताती है कि सरकार की प्राथमिकता किस तरफ है।

काफी तैयारी की थी लेकिन परीक्षा स्थगित हो गई : हिमालय प्रकाश
डी.ए.वी. कालेज के बी.कॉम. द्वितीय वर्ष के छात्र हिमालय प्रकाश का कहना है कि चुनावों की वजह से परीक्षा स्थगित होने से परेशानी हो रही है। काफी तैयारी की थी लेकिन परीक्षा स्थगित हो गई। सरकार को भी चाहिए था कि परीक्षाओं के दौरान चुनाव न करवाए जाएं। बार-बार परीक्षा टलने से विद्यार्थियों का ध्यान भटक जाता है। साथ ही साथ कई योजनाएं भी धरी की धरी रह जाती हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week