भाजपा से जीत के बाद की अपेक्षा | EDITORIAL

Saturday, December 2, 2017

राकेश दुबे@प्रतिदिन। अब योगी 2019 के चुनाव का पूर्वानुमान लगाने लगे हैं। नगरीय निकाय के चुनावों के नतीजों ने पूरी भाजपा को उत्साहित कर दिया है। उत्तर प्रदेश में मिली इस जीत का कारण प्रतिपक्ष और विशेषकर कांग्रेस की सुस्ती रही है। इस कारण बसपा को दूसरा स्थान मिला। भाजपा ने अपनी निरन्तरता बनाये रखी। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा नीत राजग को इस राज्य की 80  में 73 सीटें तथा इस साल हुए विधानसभाचुनाव में 403 में से 312 सीटें मिली थीं। केंद्र में भाजपा को सत्तासीन कराने में उत्तर प्रदेश में भाजपा को मिली जबर्दस्त कामयाबी का बड़ा योगदान था। अब सोलह नगर निगमों में से अधिकतर पर काबिज होकर भाजपा ने जहां राज्य में अपनी चुनावी सफलता का क्रम बरकरार रखा है, वहीं आलोचकों को फिलहाल चुप कर दिया है।

उत्तर प्रदेश की 198 नगरपालिकाओं में 100 से ज्यादा पर भाजपा ने जीत दर्ज की है, वहीं 438  नगर पंचायतों में से भी ज्यादातर उसी के कब्जे में गई हैं। इसके अलावा, भारी संख्या में भाजपा के पार्षद विजयी हुए हैं। इस चुनाव की खास बात यह रही कि प्रदेश में पिछली बार सत्ता में रही सपा एक भी नगर निगम पर काबिज नहीं हो सकी। कांग्रेस की स्थिति तो और भी खराब है। बसपा की स्थिति सपा और कांग्रेस से बेहतर है।

वैसे भी नगर निकाय के चुनाव हों या क्षेत्र पंचायतों या जिला पंचायतों के, अक्सर यह देखा जाता है कि सत्ताधारी दल का बोलबाला रहता है लेकिन इस बार के चुनाव में विरोधी दलों की सुस्ती भी भाजपा की जीत का एक बड़ा कारक बनी है। इस जीत से उत्साहित होकर योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उनकी पार्टी की भारी विजय होगी। योगी और मोदी कुछ भी दावा करें, लेकिन यह सत्य है कि राजनीति में डेढ़ साल का समय भी इतना होता है कि कोई भी गारंटी से कुछ नहीं कहा सकता। इसका आधार उत्तर प्रदेश में भाजपा का जनाधार हो सकता है। 

ये नतीजे विधानसभा चुनाव में चतुराई से साधी गई सोशल इंजीनियरिंग का कमाल है। अब बात पार्टी के भावी चरित्र की है कि पार्टी कहीं अपनी जीत को राजनीतिक विरोधियों या किसी खास समुदाय के दमन और उत्पीड़न का लाइसेंस न मान ले। राजनीति में यह दोष हर किसी पार्टी में आता है और इस दम्भ में बिहार और दिल्ली जैसे परिणाम आते हैं। भारतीय जनता पार्टी को इसके बाद कुछ राज्यों के विधानसभा चुनावों का सामना भी करना है। इस जीत के बाद उसका व्यवहार वहां की पृष्ठ भूमि तैयार करेगा। यह जीत आगे के चुनावों के लिए व्यवहारिक आदर्श बने, दंभ नही।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं