BU: DET-2017 नई तारीख, PGDCA EXAM DATE और उड़नदस्ता ड्यूटी घोटाला

Saturday, December 2, 2017

भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय की पीएचडी और एमफिल की प्रवेश परीक्षा (डॉक्टरल एंट्रेंस टेस्ट) अब 17 दिसंबर की जगह 24 दिसंबर को आयोजित की जाएगी। 17 दिसंबर को सीएसआईआर नेट परीक्षा होने कारण बीयू ने परीक्षा में बदलाव किया है। परीक्षा केंद्र बीयू स्थित बीयूआईटी यथावत रहेगा। प्रवेश पत्र परीक्षा के चार दिन पहले से विवि की वेबसाइट से डाउनलोड किए जा सकते हैं।

पीजीडीसीए परीक्षा का कार्यक्रम जारी
भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय ने पीजीडीसीए प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया है। परीक्षा के फॉर्म 4 दिसंबर से जमा हाेना शुरू होंगे। सामान्य फीस के साथ फॉर्म 13 दिसंबर तक और लेट फीस 300 रुपए के साथ 14 से 19 दिसंबर के बीच जमा होंगे। इसके बाद विशेष लेट फीस 1000 रुपए के साथ छात्र 20 दिसंबर से परीक्षा शुरू होने के सात दिन पहले तक फॉर्म जमा कर सकेंगे। 

उड़नदस्तों में चहेते प्रोफेसरों की ड्यूटी
भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (बीयू) में नियमों को ताक पर रख उड़नदस्तों में चहेते प्रोफेसरों की ड्यूटी लगाई गई है। इसकी वजह यह है कि इसमेेंं शामिल सदस्यों को एक हजार रुपए रोजाना के हिसाब से मानदेय निर्धारित किया गया है। वहीं कंट्रोल रूम की कमान डीन स्टूडेंट वेलफेयर (डीएसडब्ल्यू) कालिका प्रसाद यादव को सौंपी गई है, जिनके खिलाफ पहले से नकल प्रकरण के एक मामले में एफआईआर हो चुकी है और एसटीएफ जांच कर रही है। उच्च शिक्षा विभाग के आदेश के मुताबिक अतिरिक्त संचालक (एडी) की स्वीकृति के बाद विवि द्वारा कालेजों के प्रोफेसरों की सेवाएं उड़नदस्तों में ली जा सकती हैं। 

बीयू ने एडी सुधा बैसा की स्वीकृति लिए बिना चहेते प्रोफेसरों को उड़नदस्तों में शामिल कर लिया है। नकल प्रकरण में आरोपी हैं डीएसडब्ल्यू : यादव को 2014 में नकल प्रकरण का आरोपी बनाया गया था। तब वह एग्जाम समन्वयक थे। एक परीक्षा सेंटर में स्टूडेंट की उत्तर पुस्तिकाएं बाहर से लिखकर आ रही थीं। शिकायत पर एसटीएफ ने जांच की और यादव को आरोपी बनाया था। उनकी गिरफ़्तारी भी हुई थी।

पहली बार उड़नदस्ते में महिला प्रोफेसरों की ड्यूटी
परीक्षाओं में छात्राओं के नकल करने के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए पहली बार उड़नदस्तों में महिला प्रोफेसरों को भी शामिल किया है। बीयू की तृतीय और पांचवें सेमेस्टर की परीक्षाओं पर नजर रखने के लिए चार उड़नदस्ते बनाए गए हैं। पांच सदस्यीय उड़नदस्ते में एक-एक महिला प्रोफेसर शामिल हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं