धोनी T-20 के लायक हैं या नहीं: बहस के बीच धोनी ने बताई दिल की बात | INDIAN CRICKET NEWS

Monday, November 13, 2017

SPORTS DESK |  देश में एक नई बहस शुरू हो गई है। महेन्द्र सिंह धोनी अब टी-20 के लायक हैं या नहीं। स्वभाविक है कि क्रिकेट से जुड़े लोग 2 हिस्सों में बंट गए हैं और बहस जारी है। इस बीच धोनी ने भी अपने दिल की बात जाहिर की है। धोनी दुबई में अपनी क्रिकेट एकेडमी के लॉन्च कर रहे थे। इसी दौरान खलीज टाइम्स को दिए गए इंटरव्यू में धोनी ने कहा कि 'सभी के अपने-अपने विचार होते हैं और उनका सम्मान करना चाहिए। 

सबको अपनी बात कहने का हक है। टीम इंडिया का हिस्सा होना ही मेरे लिए सबसे बड़ी प्रेरणा है। धोनी ने कहा कि हर किसी को देश के लिए खेलने का मौका नहीं मिलता। आपने ऐसे कई क्रिकेटर्स देखें होंगे, जिनमें कोई खास टैलेंट नहीं था, लेकिन फिर भी वे काफी आगे गए। खेल के प्रति जुनून की वजह से ऐसा हुआ है।

धोनी ने कहा, ‘मैंने हमेशा ही माना है कि नतीजों से अहम 'प्रक्रिया' होती है। मैंने कभी भी परिणाम के बारे में नहीं सोचा, मैंने हमेशा यही सोचा कि उस समय क्या करना ठीक होगा, भले ही तब 10 रन की जरूरत हो, 14 रन की जरूरत हो या फिर पांच रन की जरूरत हो। मैं इस प्रक्रिया में ही इतना शामिल रहा और मैंने कभी भी इस बात का बोझ नहीं लिया कि तब क्या होगा, अगर नतीजे मेरे हिसाब से नहीं रहे।

धोनी ने कहा, 'आप 1 से 15 साल तक खेल सकते हो, कुछ लोग 20 साल खेलते हैं, लेकिन पूरी जिंदगी में जहां आप अगर 70 साल तक जीते हैं वहां 10 से 15 साल कुछ नहीं हैं और ये सिर्फ एक ही समय है जब आप गर्व से कह सकते हैं कि मैं अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहा हूं। सबसे बड़ी प्रेरणा है भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा होना।

धोनी पर अगरकर और लक्ष्मण ने किया था कमेंट
आपको बता दें कि राजकोट में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी-20 मैच में टीम इंडिया की हार के बाद महेंद्र सिंह धोनी को कई पूर्व क्रिकेटरों के निशाने लिया था और उनका विकल्प तलाशने की बात कही थी। अजीत अगरकर ने कहा था कि भारतीय टीम मैनेजमेंट को टी-20 में धोनी का विकल्प सोचने की जरूरत है। 

धोनी को लेकर वीवीएस लक्ष्मण ने कहा था कि, 'टी20 मैचों में धोनी नंबर 4 पर आते हैं। उन्हें सेट होने में ज्यादा वक्त लगता है और उसके बाद वे अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं। राजकोट के मैच में जब विराट कोहली का स्ट्राइक रेट 160 के करीब था तब धोनी का स्ट्राइक रेट 80 के आसपास था। भारतीय टीम जब बड़े स्कोर का पीछा कर रही थी तब यह काफी नहीं था।

लक्ष्मण ने कहा था, कि 'मुझे लगता है कि समय आ गया है कि धोनी टी-20 फॉर्मेट में किसी युवा खिलाड़ी के लिए जगह खाली करें। कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने कहा था कि श्रीलंका के खिलाफ होने वाली टी-20 सीरीज से धोनी की जगह किसी अन्य खिलाड़ी को चुना जाना चाहिए, क्योंकि भारत को दक्षिण अफ्रीका के चुनौतीपूर्ण दौरे पर जाना है।

शास्त्री और कोहली ने किया था बचाव
टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने धोनी के आलोचकों को करारा जबाव देते हुए कहा था कि कुछ बुरे लोग उनके करियर को समाप्त होते हुए देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'ऐसा लग रहा है कि उनके आस-पास उनसे जलने वाले कई लोग हैं, जो उनके करियर में बुरे दिन देखना चाहते हैं। शास्त्री ने कहा था, कि 'भारतीय टीम जानती है कि धोनी कितने काबिल हैं और ऐसे खिलाड़ी के खिलाफ किसी भी आलोचना से टीम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। आलोचना से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। हम जानते हैं कि हमारे मन में धोनी की क्या जगह है। वह एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week