PTM में आई छात्र की मां के बलात्कार की कोशिश | CRIME NEWS

Saturday, November 18, 2017

ग्वालियर। सेंट पॉल स्कूल के प्रिंसिपल ने कार्मल कॉन्वेंट में काम करनी वाली कर्मचारी से अपने चेंबर में बुलाकर अश्लील बातें करते हुए छेड़छाड़ कर दी। इसके बाद उसे नौकरी से निकालने की धमकी देकर यौन शोषण भी करना चाहा। जब कर्मचारी तैयार नहीं हुई तो उसे नौकरी से निकलवा दिया। इसके बाद वह पुलिस के पास पहुंची तो वहां उसकी रिपोर्ट नहीं लिखी। जब एसपी ने टीआई को डांटा तो FIR दर्ज की गई। 

फालका बाजार में कार्मल कॉन्वेंट गर्ल्स स्कूल में एक क्रिश्चियन कर्मचारी काम करती है। उसका बेटा मुरार के सेंट पॉल स्कूल में स्टडी करता है। कर्मचारी अपने बेटे की पेरेंट्स-टीचर मीट में नियमित जाती है। दो साल पहले सितंबर महीने में कर्मचारी इसी पीटीएम में गई थी। सेंट पॉल की प्रिंसिपल जॉन जेवियर ने हाथ मिलाने के बहाने उसे गलत तरीके से टच किया।

इसके बाद जब भी महिला कर्मचारी स्कूल में जाती तो उसके साथ प्रिंसिपल जॉन जेवियर अश्लील बातें करते थे और उसे नौकरी से निकलवाने की धमकी भी देते थे। कर्मचारी ने जेवियर की इन हरकतों को नजरअंदाज कर दिया। पिछले महीने 14 अक्टूबर को सेंट पॉल की टीचर ने कर्मचारी के बेटे से पूछा कि तुम्हारी मां नौकरी कर रही है या निकाल दिया है। उसी दिन महिला भी स्कूल में पीटीएम में गई थी।

प्रिंसिपल से मिली तो उसके साथ की फिर की गलत हरकत
टीचर के इस सवाल पर कर्मचारी शिकायत करने के लिए फिर से प्रिंसिपल जॉन जेवियर के चेंबर में गई। यहां पर शिकायत सुनने की तो उन्होंने सुनने की बजाय गलत नीयत से कर्मचारी को पकड़ लिया और छेड़छाड़ करने लगे। जब कर्मचारी ने विरोध किया तो जॉन जेवियर ने कहा कि तुम्हारे तो फादर जोसफ जेम्स से रिलेशन हैं तो मेरे साथ एतराज क्यों हैं। महिला कर्मचारी जैसे-तैसे बचकर घर पहुंच गई।

महिला कर्मचारी को नौकरी से निकाला
इसके बाद प्रिंसिपल जॉन जेवियर ने उसे नौकरी से निकलवा दिया और उसके बाद भी धमकी देकर रिलेशन के लिए दबाव बनाता रहा। परेशान होकर कर्मचारी बुधवार की रात को मुरार थाने पहुंची, लेकिन उसकी शिकायत दर्ज नहीं की।

टीआई अजय पंवार का कहना है कि मामला एक महीने पुराना है और स्कूल में सीसीटीवी फुटेज भी नहीं मिला। पहले मामले की जांच करेंगे, तब एफआईआर दर्ज होगी। उधर पीड़ित महिला का कहना है कि पुलिस और स्कूल मैनेजमेंट मिला हुआ है और वह बुधवार की रात 12 बजे तक थाने में बैठी रही, लेकिन उसकी एफआईआर दर्ज नहीं की। हालांकि यह शिकायत जब एसपी डॉ. आशीष कुमार के पास पहुंची तो मुरार पुलिस ने महिला की एफआईआर दर्ज की और अब टीआई पंवार जांच की बात भी कह रहे हैं।

प्रिंसिपल ने आरोपों को गलत बताया
महिला कर्मचारी की इस शिकायत पर सेंट पॉल की प्रिंसिपल जॉन जेवियर का कहना है कि उसके ऊपर आरोप लगाए हैं वे गलत हैं। वे केवल 14 अक्टूबर को केवल दो मिनट के लिए उक्त महिला से मिले थे। जॉन जेवियर ने यह भी कहा कि महिला उनके नहीं, बल्कि लश्कर चर्च में काम करती है और उन्होंने नौकरी से क्यों निकाला यह नहीं मालूम, लेकिन महिला किसी के कहने में आकर आरोप लगा रही है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं