जानिए क्यों पद्मावती, CM शिवराज सिंह की राष्ट्रमाता हो गई | NATIONAL NEWS

Saturday, November 25, 2017

भोपाल। श्रीराजपूत करणी सेना फिल्म पद्मावती का विरोध कर रही है। वो फिल्म की निर्माण प्रक्रिया की शुरूआत से इकार विरोध कर रही है और उनका विरोध समझ भी आता है परंतु पिछले कुछ दिनों में भाजपा के मंत्री और मुख्यमंत्रियों अचानक पद्मावती प्रेम जाग उठा। वो एक के बाद एक बयान जारी कर रहे हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने तो पद्मावती को राष्ट्रमाता का दर्जा दे डाला। हालांकि वो सीएम हैं, और भारत के फैसले करने का अधिकार उनके पास नहीं है परंतु पद्मावती कम से कम शिवराज सिंह की राष्ट्रमाता तो हो ही गईं। मप्र के गृहमंत्री दुष्कम पीड़िता को पद्मावती अवार्ड देना चाहते हैं। स्कूलों में पद्मावती के आग में कूदकर आत्मदाह करने वाली घटना को पढ़ाया जाएगा। 

सवाल यह है कि आखिर क्यों अचानक भाजपा को राजपूतों के मान सम्मान और पद्मावती की आन बान शान का ध्यान आ गया। क्यों भाजपा के बड़े बड़े दिग्गज इस कदर उतावले हुए जा रहे हैं जबकि सरकार उनकी है। जब चाहें फिल्म को बैन कर सकते हैं, बंद करा सकते हैं। किसी बयान की जरूरत नहीं, बस श्रीराजपूत करणी सेना के ज्ञापन पर आदेश लिखते हुए साइन भर करना है। आइए जानने की कोशिश करते हैं, इसके पीछे का असली सच: 

भाजपा नेताओं ने भड़काऊ बयान क्यों जारी किए
बीजेपी की सत्ता वाले करीब 7 राज्य इसकी रिलीज रोकने की बात कह चुके हैं। यह बैन पहले दिन भी लगाया जा सकता था लेकिन इससे पहले भाजपा नेताओं ने भड़काऊ बयान जारी किए। इस तरह से उन्होंने राजपूत वोटर्स को अपनी तरफ लुभाया और फिल्म को बैन करने का श्रेय भी भाजपा को मिल गया। यदि ऐसा ना करते तो यह श्रेय श्रीराजपूत करणी सेना को मिलता और भाजपाईयों को मालूम है कि करणी सेना से तात्पर्य राजपूत समाज नहीं है। 

500 विधानसभा सीटों पर राजपूतों का असर
दरअसल देश में इसके बहाने राजनीतिक दल राजपूतों की राजनीति कर रहे हैं। राजपूत देश के 15 बड़े राज्यों मे 450-500 विधानसभा सीटों पर असर डालते हैं। इसीलिए बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियां फिल्म के खिलाफ खुलकर बोल रही हैं। कांग्रेस की पंजाब सरकार ने भी इसकी रिलीज के खिलाफ है। सिर्फ पश्चिम बंगाल और कर्नाटक में समर्थन में है।

इसलिए इन 4 राज्यों में रोक लगाई
गुजरात में 17 से 18 जिलों में करीब 10% वोटर्स राजपूत हैं। 20 से 25 सीटों पर इनका असर है। अभी करीब 18 राजपूत विधायक हैं।
उत्तरप्रदेश में 10 से 11% मतदाता राजपूत हैं। इस समय राज्य में निकाय चुनाव चल रहे हैं। 14 सांसद और 78 विधायक राजपूत हैं। यहां 100 सीटों पर राजपूतों का प्रभाव है। 
राजस्थान में 8-10% राजपूत वोटर्स हैं। 2018 में चुनाव हैं। करीब 28 विधायक, तीन सांसद राजपूत हैं।
मध्य प्रदेश में 7 से 8% वोटर्स हैं। करीब 40-45 सीटों पर राजपूत अहम। यहां 2018 में चुनाव हैं। 3 सांसद राजपूत हैं।

राज्यों में राजपूत वोटर्स की संख्या
उत्तर प्रदेश 1.5 करोड़
राजस्थान 65-70 लाख
मध्यप्रदेश 60-65 लाख
बिहार 50-55 लाख
गुजरात 40-45 लाख
उत्तराखंड 35-40 लाख
हिमाचल 25 लाख

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं