फेसबुक पर 27 करोड़ अकाउंट फर्जी

Sunday, November 5, 2017

नई दिल्ली। भारत में 2014 के लोकसभा चुनाव और उसके बाद हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में फेसबुक के फर्जी खातों की बातें सामने आईं थीं जिनसे अफवाहें उड़ाई गईं या निम्नस्तरीय राजनीतिक हमले किए गए। साल 2016 के अमेरिकी चुनाव में रूस के दखल के संबंध में भी फेसबुक की भूमिका जांच की जद में है। इसी बीच उसने एक्सेप्ट किया है कि उसके यहां 27 करोड़ खाते फर्जी हैं। यह सबकुछ तब जब फेसबुक अकाउंट वेरिफिकेशन के लिए अब कई स्तर पर खाताधारक की जांच करता है। 

एक रपट में शनिवार को बताया गया कि सोशल मीडिया दिग्गज ने इस हफ्ते अपनी तिमाही आय के आंकड़े जारी किए थे और इसके साथ ही यह खुलासा भी किया था कि उसने जितना अनुमान लगाया था, उससे दसों लाख गुना ज्यादा फर्जी या नकली खाते हैं। द वाशिंगटन पोस्ट की अक्टूबर में प्रकाशित एक रपट के मुताबिक, फेसबुक ने सांसदों को यह बताने की योजना बनाई थी कि 12.6 करोड़ यूजर्स ने रूसी ऑपरेटरों द्वारा उत्पादित और वितरित सामग्री देखी होगी। यह कंपनी द्वारा पहले बताए गए आंकड़ों से कई गुना अधिक है। फेसबुक ने पहले बताया था कि लगभग 10 लाख यूजर्स ने उन विज्ञापनों को देखा था।

इससे पहले खबर आई थी कि फेसबुक अपने न्यूज फीड को दो भागों में विभाजित करने के लिए टेस्टिंग कर रहा है। इसके तहत सोशल मीडिया की जगत की दिग्‍गज कंपनी फेसबुक निजी समाचारों से व्यावसायिक पोस्‍टों को अलग करने के बारे में विचार कर रहा है। कंपनी का मानना है कि यह कुछ व्यवसायों को विज्ञापन बढ़ाने के लिए प्रेरित कर सकता है।

स्लोवाकिया, सर्बिया और श्रीलंका सहित छह देशों में इस नई प्रणाली का परीक्षण किया जा रहा है. इसके तहत लगभग सभी नॉन-प्रोमेटिड पोस्ट को सेंकेंडरी फीड में शिफ्ट किया जा सकता है और मुख्य फीड में पूरी तरह से ओरिजनल कंटेंट होगा, जोकि दोस्तों और विज्ञापन की ओर से पोस्ट किया जाएगा।

कंपनी के एक बयान के मुताबिक एक फीड मित्रों और परिवार पर ध्यान केंद्रित करता है, जबकि दूसरा उस पृष्ठ पर समर्पित होता है, जिसे ग्राहक पसंद करते हैं. इस बदलाव में फेसबुक पेजों पर यूजर्स इंगेजमेंट में गिरावट देखी गई है. हालांकि अगर इसे ज्‍यादा दोहराया जाता है तो इस तरह के बदलाव से कई छोटे प्रकाशकों को नुकसान होगा, जो बड़ी संख्या में दर्शकों के लिए सोशल मीडिया रेफरल पर ही निर्भर रहते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week