भोपाल में जानलेवा बुखार का हाहाकार, हमीदिया में पुलिस बुलाई, 13 इलाकों में भयंकर संक्रमण

Tuesday, November 7, 2017

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हालात नियंत्रण से बाहर हो गए हैं। जानलेवा बुखार स्वाइन फ्लू, डेंगू के बाद अब वायरल बुखार का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। भोपाल के 13 बड़े इलाकों में भयंकर संक्रमण फैल चुका है। सरकारी और निजी अस्पतालों की अोपीडी में वायरल फीवर और सर्दी-खांसी के रोजाना 2500 से ज्यादा मरीज पहुंच रहे हैं। अस्पतालों में 2000 से ज्यादा मरीज बुखार के भर्ती हैं। दो दिन की छुट्टी के बाद सोमवार को हमीदिया की ओपीडी में 2468 मरीज पहुंचे। आईपीडी की संख्या 164 रही। यहां भीड़ को संभालने के लिए पुलिस बुलाई गई। पुलिस ने भीड़ को संभालने के लिए लाठियां भी फटकारीं। 

संक्रमण रोकने के लिए सरकार की तमाम कोशिशें फेल हो गईं हैं। हालात बिगड़ते जा रहे हैं। हमीदया में पहुंचे मरीजों में एक हजार मरीज वायरल फीवर के थे। इनमें से 500 के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। जेपी अस्पताल में भी सुबह से मरीजों की लंबी कतारें दिखाई दीं। यहां बेड फुल होने से कुछ मरीजों को जमीन पर लेटना पड़ रहा है। जेपी अस्पताल अधीक्षक आईके चुघ का कहना है कि सोमवार को अचानक मरीजों की संख्या बढ़ी है। लंबे समय बाद ओपीडी की संख्या 1600 से बढ़कर 2200 पर पहुंच गई। 

OPD की लाइन में पैर रखने की जगह नहीं, 11 काउंटर खुले 
हमीदिया की ओपीडी में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए खोले गए 6 काउंटर में सुबह 10.30 बजे तक लंबी-लंबी कतारें लग चुकी थीं। पर्चा बनवाने के लिए सड़क तक मरीज खड़े थे। पहली बार यहां पर 11 काउंटर खोलकर पर्चे बनाए जा रहे थे। भीड़ इतनी थी कि पुलिस को लाइनें ठीक कराने के लिए मोर्चा संभालना पड़ा। 

हमीदिया में ट्रैफिक जाम
हमीदिया में लोगों ने गाड़ियां सड़क के आसपास खड़ी कर दी। यहां नई बिल्डिंग के लिए भी काम चल रहा है। ओपीडी के टाइम में मटेरियल लेकर डंपर भी गुजरे। इसी दौरान एक पोकलेन मशीन निकली। इसके चलते अस्पताल की एंट्री गेट पर ट्रैफिक जाम लग गया। करीब 20 मिनट तक लोगों की गाड़ियां जाम में फंसी रही। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर व्यवस्था सुधरवाई। 

शाकिर अली अस्पताल में थर्ड फ्लोर पर लगाया ताला
खान शाकिर अली खान अस्पताल में प्रबंधन ने थर्ड फ्लोर में ताला लगा दिया है। अब यहां पर आने वाले मरीजों को इलाज नहीं होने की जानकारी देकर लौटाया जा रहा है। वहीं, भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन के संयोजक अब्दुल जब्बार ने मॉनिटरिंग कमेटी से की शिकायत में कहा है कि यहां एक-एक पलंग पर दो-दो मरीजों को लिटाया जा रहा है। जेपी के अधीक्षक आईके चुघ के मुताबिक डेंगू और स्वाइन फ्लू से कई गुना ज्यादा मरीज वायरल फीवर के हैं। इसकी वजह तापमान में उतार-चढ़ाव होना है। 

कहां कितने मरीज दर्ज
1000 हमीदिया अस्पताल 
500 जेपी अस्पताल 
300 जवाहरलाल नेहरू गैस राहत 
100 खान शाकिर अली गैस राहत 
100 काटजू हॉस्पिटल 
500 निजी अस्पतालों की ओपीडी 

ये इलाके संक्रमण की चपेट में
कोलार, सर्वधर्म, चूनाभट्टी, शाहपुरा, त्रिलंगा, अशोका गार्डन, सुभाष नगर, गौतम नगर, साकेत नगर, अवधपुरी, टीटी नगर, करोंद, कोहेफिजा एवं आसपास।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week