टीकमगढ़ किसान कांड: कैमरों से डरे SP, पुलिस थानों में प्रवेश प्रतिबंधित

Thursday, October 12, 2017

टीकमगढ़। एक थाने में किसानों के कपड़े उतारकर पीटने वाली घटना के बाद शिवराज सिंह सरकार ने पुलिस के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। उत्साहित एसपी ने पुलिस थानों में आम जनता के सीधे प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है। अब बिना अनुमति कोई भी व्यक्ति पुलिस थाने के भीतर प्रवेश नहीं कर सकता। थानों पर पहरा बिठा दिया गया है। मीडिया के कैमरों से विशेष सावधारियां बरती जा रहीं हैं। असल में, पुलिस ने यह कदम इसलिए उठाया ताकि थाने की सच्चाई बाहर न जा सके। देहात थाने के लॉकअप में किसानों के साथ मारपीट की सच्चाई बाहर आने से बौखलाई पुलिस ने बिना इजाजत थानों में प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है। इस आदेश के बाद जिले के सभी थानों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। देहात थाने के बाद कोतवाली का मुख्य गेट भी बंद कर दिया गया है।

गेट पर संतरी को तैनात कर दिया गया है, जिससे लोग अंदर न घुस पाएं। यहां तक थानों में आने-जाने वाले लोगों की एंट्री की जा रही है। पुलिस के इस कदम से जहां, फरियादियों को परेशानी हो रही है, वहीं पत्रकार आक्रोशित हैं जो नियमित रूप से थानों में रिपोर्टिंग के लिए जाते हैं। 

मीडिया को रोकने के लिए लगाया पहरा
डीआईजी केसी जैन से जब इस बारे में पूछा गया तो उनका कहना था कि मीडिया थाने के अंदर तक चली जाती है। ऐसा नहीं होना चाहिए। मीडिया को जानकारी देने के लिए पीआरओ नियुक्त किया जा रहा है। वहीं घटनाओं की जानकारी देगा। एसपी के फरमान के बारे में उनका कहना है कि लिखित में ऐसा कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। मौखिक तौर पर किया गया तो मुझे इसकी जानकारी नहीं है।

उजागर हो चुके हैं पुलिस के भ्रष्टाचार
पुलिस में भ्रष्टाचार चरम पर है। लोकायुक्त ने हाल ही में दो इंस्पेक्टरों को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है। खरगापुर के टीआई हिमांशु चौबे पर अवैध वसूली की शिकायत एसपी तक पहुंची है। इसके पहले बड़ागांव का एएसआई भी रिश्वत लेते पकड़ा जा चुका है। ऐसे में खाफी वर्दी शर्मसार हो रही है। इन तमाम घटनाओं को देखकर कहा जा सकता है कि पुलिस विभाग में सब कुछ ठीक नहीं है। अपनी खामियों से बौखलाए पुलिस अफसर अब मीडिया से दूरी बनाने और थानों की पारदर्शिता पर पर्दा डालने का मन बना चुके हैं।

मीडियाकर्मियों के लिए है ये नियम
एसपी कुमार प्रतीक का कहना है कि थानों में आसामाजिक तत्वों को रोकने के पाबंदी लगाई गई है। कई बार भीड़ में आसामाजिक तत्व भी थानों में घुस जाते हैं। मीडिया के साथ ऐसा नहीं है। मीडियाकर्मी अपना आईडी कार्ड दिखाकर अंदर जा सकते हैं। अब सवाल यह है कि जब मीडियाकर्मी थाने जाएगा तो उसे भी आने का कारण बताना पड़ेगा। यहां तक कि रजिस्टर में एंट्री करना पड़ेगी।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week