MPSRLM का प्रोजेक्ट मैनेजर कन्हैया सोनी रिश्वत लेते गिरफ्तार

Thursday, October 5, 2017

धार। इंदौर लोकायुक्त पुलिस की टीम ने धार में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन जिला परियोजना प्रबंधक कन्हैया सोनी को 20 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा है। जानकारी के मुताबिक परियोजना प्रबंधक सोनी ने संकुल नालछा के समूह प्रेरक, मुकेश मुखिया से देवास ट्रांसफर के लिए रिलीव करने को लेकर 50 हजार रुपए मांगे थे।मुकेश ने इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस को की, जिसके बाद कन्हैया सोनी को पहली किश्त 20 हजार रुपए लेते हुए रंगेहाथों पकड़ लिया गया। जैसे ही मुकेश ने उनके हाथ में पैसे दिए और बाहर आया वैसे ही लोकायुक्त पुलिस अंदर पहुंची, उन्हें देख परियोजना प्रबंधक के होश उड़ गए थे।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के बारे में
ग्रामीण विकास मंत्रालय का उददेश्य ग्रामीण गरीब परिवारों को देश की मुख्यधारा से जोड़ना और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिये उनकी गरीबी दूर करना है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए मंत्रालय ने जून, 2011 में आजीविका-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) की शुरूआत की थी। आजीविका-एनआरएलएम का मुख्य उददेश्य गरीब ग्रामीणों को सक्षम और प्रभावशाली संस्थागत मंच प्रदान कर उनकी आजीविका में निरंतर वद्धि करना, वित्तीय सेवाओं तक उनकी बेहतर और सरल तरीके से पहुंच बनाना और उनकी पारिवारिक आय को बढ़ाना है। इसके लिए मंत्रालय को विश्व बैंक से आर्थिक सहायता मिलती है।

आजीविका-एनआरएलएम ने स्व-सहायता समूहों तथा संघीय संस्थानों के माध्यम से देश के 600 जिलों, 6000 प्रखंडों, 2.5 लाख ग्राम पंचायतों और छह लाख गांवों के 7 करोड़ ग्रामीण गरीब परिवारों (बीपीएल) को दायरे में लाने का और 8 से 10 साल की अवधि में उन्हें आजीविका के लिए आवश्यक साधन जुटाने में सहयोग देने का संकल्प किया है, जो एक कार्यक्रम के माध्यम से पूरा होगा। इसके अतिरिक्त गरीब जनता को अपने अधिकारों और जनसेवाओं का लाभ उठाने में, तरह तरह के जोखिम उठाने में और सशकितकरण के बेहतर सामाजिक संकेतकों को समझने में मदद मिलेगी। आजीविका-एनआरएलएम इस बात में विश्वास रखता है कि गरीबों की सहज क्षमताओं का सदुपयोग हो और देश की बढ़ती अर्थव्यवस्था में उनका योगदान हो, जिसके लिए उनकी सूचना, ज्ञान, कौशल, संसाधन, वित्त तथा सामूहिकीकरण से जुड. क्षमताएं विकसित की जाएं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week