गृहमंत्री ने कहा था दिल खोलकर चलाएं पटाखे, पर्यावरण मंत्री ने प्रतिबंध लगा दिया

Wednesday, October 11, 2017

भोपाल। मध्यप्रदेश के पर्यावरण मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने दीपावली के अवसर पर चलाई जाने वाली उस हर आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसकी आवाज 100 डेसीबल से ज्यादा हो। इससे पहले मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने एक ट्वीटकर कहा था कि दिल्ली के लोगों को मध्यप्रदेश में बुला लीजिए। यहां पटाखों पर कोई प्रतिबंध नहीं है। सरकार ने रात 10 बजे के बाद और सुबह 6 बजे के पहले​ किसी भी प्रकार की आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगा दिया है। जबकि सामान्यत: दीपावली के अवसर पर रात 10 बजे के बाद ही आतिशबाजी होती है। 

मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने दीपावली के अवसर पर निर्धारित ध्वनि-स्तर के पटाखों का सीमित मात्रा में उपयोग और पटाखों से उत्पन्न कचरे को अलग से निष्पादित करने की अपील की है। श्री आर्य ने आग्रह किया है कि जलाने के बाद पटाखा कचरे को ऐसे स्थानों पर न फेकें जहाँ प्राकृतिक या पेयजल-स्रोत प्रदूषित होने की संभावना हो। श्री आर्य ने कहा कि पटाखों से जलने से उत्पन्न कागज के टुकड़े एवं अधजली बारूद के कचरे के सम्पर्क में आने वाले पशुओं और बच्चों के दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना होती है। कुछ पटाखों की ध्वनि की तीव्रता 100 डेसीबल से भी अधिक होती है।

रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ध्वनिकारक पटाखों पर प्रतिबंध
श्री आर्य ने कहा कि पटाखों के ज्वलनशील एवं ध्वनिकारक होने के कारण परिवेशी वायु में प्रदूषक तत्वों की वृद्धि होने से पर्यावरण और मानव पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना जीएआर 682 (ई) के अनुसार 125 डी.बी. (ए.आई.) या 145 डी.बी. (सी) से अधिक ध्वनि-स्तर जनक पटाखों का विनिर्माण, विक्रय या उपयोग वर्जित होगा। उच्चतम न्यायालय के ध्वनि प्रदूषण पर नियंत्रण के परिप्रेक्ष्य में जारी निर्देशानुसार रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ध्वनिकारक पटाखों का चलाया जाना पूरी तरह प्रतिबंधित होगा।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week