करवा चौथ: यदि बादलों के कारण चांद ना दिखे तो क्या करें

Sunday, October 8, 2017

भोपाल। पति की लंबी आयु के लिए रविवार को महिलाएं करवा चौथ पर निर्जला व्रत रखेंगी। यह व्रत यूं तो चांद को देखने के बाद ही पूरा किया जाता है, लेकिन बादलों के चलते अगर चांद दिखाई नहीं दे तब भी व्रत पूरे विधि-विधान के साथ खोला जा सकता है। ज्योतिषमठ संस्थान के पं.विनोद गौतम ने बताया कि राजधानी में चंद्रमा रात 8ः16 बजे दिखाई देगा। पूजन का मुहूर्त 8ः36 से शुरू होगा। इस बार करवाचौथ सर्वार्थ सिद्धि योग में पड़ रहा है। ऐसे में चंद्रमा के दर्शन करने से हर मनोकामना पूरी होगी।

पं. गौतम के मुताबिक बादलों के कारण अगर चंद्रमा दिखाई न दे तो शुभ मुहूर्त में पूजन किया जा सकता है। इसके लिए चौकी सजाएं। उस पर लाल कपड़े के ऊपर चावल से चांद की आकृति बनाएं। ओम चतुर्थ चंद्राय नमः मंत्र का जाप कर चंद्रमा का आह्वान करने के बाद विधि-विधान से पूजन कर व्रत पूरा किया जा सकता है। पं गौतम ने बताया कि शास्त्रों में इस बात का उल्लेख है कि गर्भवति, बुजुर्ग एवं रोगी महिलाओं के लिए चंद्र दर्शन अनिवार्य नहीं है।

पति को सर उठा कर देखें, बाल्यावस्था के चांद का न करें पूजन
ज्योतिषाचार्य पं.विनोद गौतम ने बताया कि व्रत खोलने की जल्दी में चांद के उगते ही उसका पूजन नहीं करना चाहिए। उगते समय चांद बाल्यावस्था में होता है। ऐसे में चंद्रमा का पूजन करने से व्रत का पूरा फल नहीं मिलता। चांद के पूरी तरह से परिपक्व हो जाने एवं जब उसकी किरणें पूरी तरह से दिखने लगें तब ही पूजन करना चाहिए। पूजन के दौरान इस बात का विशेष ध्यान सुहागनों को रखना चाहिए कि वे अपने पति को भी उसी तरह सिर उठाकर देखें जैसे चांद को देखती हैं। इसके लिए पति को छोड़ा ऊंचाई पर भी खड़ा किया जा सकता है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं