सुरक्षा को धता बता PM MODI की सभा में घुस गए शिक्षामित्र, हुई नारेबाजी, 50 हिरासत में

Sunday, September 24, 2017

वाराणसी। जिला प्रशासन की तमाम तैयारियों और सुरक्षा प्रबंधों क बावजूद आंदोलनकारी शिक्षामित्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शाहंशाहपुर की जनसभा में ना केवल घुस गए बल्कि जमकर नारेबाजी भी की। सीएम योगी आदित्यनाथ के भाषण से लेकर पीएम मोदी के भाषण तक शिक्षामित्रों की नारेबाजी चलती रही। पुलिस ने 50 शिक्षामित्रों को हिरासत में ले लिया है। प्रशासन यह समझने की कोशिश कर रहा है कि आखिर शिक्षामित्र सभा में घुसे कैसे जबकि यहां तो केवल आमंत्रित श्रोताओं को प्रवेश दिया गया था। उधर शिक्षामित्रों के हाथों में आधिकारिक निमंत्रण पत्र नजर आए। सवाल यह है कि ये निमंत्रण पत्र आंदोलनकारियों को किसने दिए। 

शिक्षामित्रों ने पहले ही घोषणा कर रखी थी कि वे प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान धरना-प्रदर्शन करेंगे। उनकी धमकी पर जिला और पुलिस प्रशासन सतर्क था। इसके बावजूद बड़ी संख्या में शिक्षामित्र सुरक्षा व्यवस्था को चकमा देते हुए सभा स्थल तक पहुंचे गए। वे वीआईपी दीर्घा के ठीक पीछे वाली कुर्सियों पर बैठे थे। जैसे ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना संबोधन शुरू किया, शिक्षामित्र कुर्सियों पर खड़े होकर नारेबाजी करने लगे। पहले तो लोगों ने सोचा की सीएम के समर्थन में नारे लगा रहे हैं। 'शिक्षामित्र एकता जिंदाबाद' और 'अपना वादा पूरा करो' जैसे नारे गूंजने लगे तो पुलिस हरकत में आई।

भाजपा पदाधिकारी उनकी तरफ दौड़े। उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माने। नारेबाजी चलती रही। इस बीच पूर्वांचल राज्य बनाने की मांग करती हुई कुछ महिलाएं मंच तक दौड़ गई। पुलिसकर्मियों ने किसी तरह उन्हें हटाया। मुख्यमंत्री का भाषण समाप्त होने के बाद जैसे ही प्रधानमंत्री ने बोलना शुरू किया शिक्षामित्रों की नारेबाजी शुरू हो गई। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी ने फिर समझाने की कोशिश की लेकिन वे मानने को तैयार नहीं थे।

आखिर कैसे पहुंचे शिक्षामित्र
सभा के बाद वहां यह सवाल उठ रहा था कि इतनी सुरक्षा के बावजूद शिक्षामित्र वहां कैसे पहुंच गए। सूत्रों का कहना है कि बड़ी संख्या में आसपास के जिलों से शिक्षामित्र तीन दिन पहले ही पहुंच गए। उन्होंने किसी तरह सभा में पहुंचने के जारी निमंत्रण पत्र हासिल कर लिया। उनके हाथों में निमंत्रण पत्र दिख रहा था। इस पर उनका नाम और आधार कार्ड नंबर लिखा था। प्रशासन ने उनको चकमा देने के लिए पांच शिक्षामित्रों को प्रधानमंत्री से मिलवाने का आश्वासन दिया। जब ये शनिवार को डीरेका पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया। पीएम से नहीं मिलवाया।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week