मैं तो नपुंसक हूं, रेप कैसे कर सकता हूं: फलाहारी बाबा

Saturday, September 23, 2017

नई दिल्ली। ख्याति प्राप्त जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी कौशलेंद्र प्रपान्नाचार्य जिन्हे फलाहारी बाबा के नाम से जाना जाता है ने चौंकाने वाला बयान दिया है। बाबा ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि मैं तो नपुंसक हूं, रेप कैसे कर सकता हूं। उन्होंने कहा कि तीन माह पूर्व गलत जड़ी-बूटी के सेवन से नपुंसक हो गया, इसका असर छह माह तक रहता है। बता दें कि हिंदू धर्म में जगदगुरु उस सन्यासी को कहते हैं जो दिव्य शक्तियों का स्वामी होता है। वो ना केवल भविष्य देख सकता है, बल्कि उसे बदलने की शक्ति भी रखता है। अजीब बात यह है कि जगदगुरु रामानुजाचार्य का आयुर्वेद के विषय में ज्ञान एक आम आदमी से भी कम था। पुलिस इसे बाबा का बहाना मान रही है और पोटेंसी टेस्ट कराने पर विचार कर रही है। इस टेस्ट से ही साबित हो सकेगा कि बाबा नपुंसक है या नहीं। उल्लेखनीय है कि आसाराम ने भी खुद को इसी तरह से नपुंसक बताया था, इस पर पुलिस ने उसका पोटेंसी टेस्ट करवाया था, इसकी रिपोर्ट में साफ हुआ था कि वह नपुंसक नहीं है।

पुलिस द्वारा की गई प्रारम्भिक पूछताछ में युवती के साथ गंदी हरकतें और रेप करने की कोशिश का मामला प्रमाणित पाया जा रहा है परंतु पुलिस गिरफ्तारी से पूर्व उसके खिलाफ ठोस सबूत जुटाना चाहती है। पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश ने बताया कि बाबा के कमरे से महिलाओं के जेवरात और कपड़े मिले है। कमरे से पीड़ित युवती का भी कुछ सामान जप्त किया गया। अरावली विहार थाना अधिकारी ने बताया कि बाबा से अभी पूछताछ की जा रही है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बाबा की किसी भी वक्त गिरफ्तारी हो सकती है। इधर बाबा की गिरफ्तारी की आशंका के चलते उसके समर्थक दो दिन से अलवर शहर में अरावली स्थित आश्रम में जुटे हैं। 

माता-पिता 25 सालों से बाबा के भक्त हैं 
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर निवासी 21 साल की एक युवती ने 11 सितम्बर को बिलासपुर के महिला पुलिस थाने में अलवर के अरावली विहार स्थित मधु सुदन आश्रम के कौशलेन्द्र प्रपान्नाचार्य उर्फ फलहारी बाबा के खिलाफ यौन शौषण के प्रयासों का मामला दर्ज कराया था। साक्ष्य के रूप में उसने अपने कपड़े भी दिए। अरावली विहार पुलिस थाना अधिकारी शीशराम मीणा ने बताया कि बिलासपुर पुलिस ने मामला अलवर पुलिस को स्थानानंतरित कर दिया। युवती ने पुलिस में दर्ज कराई गई एफआईआर में कहा है कि उसके माता-पिता पिछले 20-25 सालों से बाबा के भक्त है।

बाबा ने ही भेजा था वकील के पास
वे समय-समय पर बाबा के अलवर स्थित आश्रम में आते रहते है, वहीं बाबा भी बिलासपुर जाता है तो उनके घर ही ठहरता है। युवती के अनुसार वह जयपुर में रह कर लॉ की पढ़ाई कर रही है। उसे किसी वकील के साथ कुछ दिन के लिए इंटर्नशिप करनी थी, इस बारे में बाबा को बताया तो उन्होंने एक वकील के पास भेज दिया। इंटर्नशिप पूरी होने पर वकील के ऑफिस से उसे तीन हजार रूपए मानदेय के रूप में मिले। इस पर माता-पिता ने यह राशि बाबा के आश्रम में सर्मिपत करने को कहा।

मेरी जीभ पर लगी शहद चाटो तो जज बन जाओगी 
माता-पिता के कहने पर वह 7 अगस्त को वह बाबा के पास पहुंची और राशि भेंट कर दी। बाबा ने उसे एक रात आश्रम में ही रूकने के लिए कहा। उसे एक कमरे में भेज दिया गया। रात करीब 8 बजे एक शिष्य युवती के पास आया और कहा आपको बाबा बुला रहे हैं। इस पर वह बाबा के कमरे में चली गई। बाबा ने वहां मौजूद लोगों को आश्रम के ही मंदिर में हो रही आरती में शामिल होने के लिए भेज दिया और फिर कमरे का गेट बंद कर अश्लील हरकतें करने लग गया। बाबा ने गुप्तांगों मे छेड़छाड़ शुरू कर दी। बाबा ने युवती से कहा वो अपनी जीभ पर शहद से ऊं लिखेंगे और फिर तुम अपनी जीभ से उसे चाटना। बाबा ने कहा ऐसी दीक्षा हमने बहुत महिलाओं को दी है, इससे उन्हे सुंदर पुत्र प्राप्त होने के साथ ही जीवन उन्नत हुआ है, तुम भी आगे जाकर जज बन जाओगी। बाबा जब युवती से यह हरकत कर रहा था उसी दौरान आश्रम के एक बालक ने कमरे का गेट बजाया, इस पर घबराया बाबा दूर हट गया।

वेद विघालय में बिताई रात
युवती ने बताया कि इससे घबराई वह आश्रम छोड़कर पास ही वेद विघालय में चली गई। अगले दिन 8 सितम्बर को वह ट्रेन से अपने भाई के पास दिल्ली गई और उसे पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। दोनों भाई बहन बिलासपुर जाकर अपने माता-पिता से मिले और बाबा की हरकतों के बारे में बताया। इसके बाद युवती ने बिलासपुर महिला पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं