गरीबों का 51 हजार क्विंटल चावल, गोदामों रखे-रखे पाउडर बन गया

Wednesday, September 13, 2017

सुधीर ताम्रकार/बालाघाट। सरकार गरीबों को राशन प्रणाली से वितरित करने के लिए हर साल हजारों क्विंटल गेंहू चावल खरीदती है परंतु इस खरीदी में घोटाले के कारण सरकारी खजाने को बड़ी चपत लग रही है। 51 हजार क्विंटल चावल गोदामों में रखे रखे डस्ट में तब्दील हो गया क्योंकि वो घटिया था। खरीदी के समय ही उसे रोक दिया जाना चाहिए था परंतु कमीशन के खेल में उसे खरीदा गया और अब गोदाम में पड़े पड़े कचरा हो गया। चौंकाने वाली बात तो यह है कि खादय मंत्री ने मामले की जांच के आदेश तो दिए लेकिन फालोअप नहीं लिया। जांच पूरी होने के बाद भी रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं हुई है। 

जिले के कटंगी स्थित भारतीय खादय निगम के गोदामों में 3 वर्ष पूर्व खरीदा गया चावल जो सार्वजनिक वितरण प्रणाली के जरिये आम उपभोक्ताओं में वितरित किया जाना था पूरी तरह नष्ट किये जाने की कगार तक पहुंच गया है। नागरिक आपूर्ति निगम के अफसरों और राईस मिलर्स की सांठगांठ के चलते कमिशन के चक्कर में अमानक चावल खरीद लिया गया। जो अब कीड़े लग जाने से पाउण्डर की सकल में तब्दील होता जा रहा है।

खाने के अयोग्य इस चावल को नीलामी के जरिये ठिकाने लगाने की कवायद की जा रही है लेकिन जो लोग नीलामी के माध्यम से इस चावल को खरीदना चा रहे थे चावल की हालत देखकर उन्होने अपने हाथ खडे कर लिये। अमानक स्तर के उपयोग के ना काबिल भण्डारित इस चावल की देखरेख पर अभी भी लाखों रूपये खर्च किये जा रहे है।

यह उल्लेखनीय है कि मार्च 2017 में खादय मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे के निर्देश पर एक उच्चस्तरीय जांच दल जिसमें 5 वरिष्ठ स्तर के अधिकारी शामिल थे, जांच करने बालाघाट आये थे। उन्होने भण्डारित चावल की वास्तविकता परखी। सप्लाई करने वाले राईस मिलर्स, खरीदने वाले अधिकारी और भण्डारगृह निगम के अधिकारियो से पूछपरख की। खादय मंत्री के निर्देश थे की जांच दल एक सप्ताह के अंदर जांच प्रतिवेदन सरकार को प्रस्तुत करेगा लेकिन 6 माह गुजर जाने के बाद आज तक जांच दल के निष्कर्षों का कोई पता नही है।

आज तक राईस मिलर्स और अधिकारियों पर कोई कार्यवाही नही की गई। नीलामी की आड में चावल का निपटारा कर इन्हें बचाने प्रयास किया जा रहा है। भ्रष्टाचार के मामले में जीरों टांलरेंस और करप्शन मुक्त प्रदेश का दावा करने वाले नेताओं के मुंह पर यह मामला तमाचा जडने जैसा है। ऐसा लगता है कि इस मामले की जांच रिपोर्ट पोस्टमार्टम के बाद दफना दी जायेगी। जिम्मेदार अधिकारी, राईस मिलर्स बचा लिये जायेगे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week