3 बेटियों को गोद में बिठा मां ने किया अग्निस्नान, मौत

Saturday, September 16, 2017

दमोह। सरकार ने बेटी बचाओ के लिए करोड़ों बहाए परंतु मैसेज वहां तक नहीं पहुंच पाया जहां जाना चाहिए था। यहां एक महिला ने अपनी 3 बेटियों को गोद में इसलिए बिठाकर अग्निस्नान कर लिया क्योंकि उसके गर्भ में चौथी कन्या आ गई थी और ससुराल वाले उसे ताने मार रहे थे। परिजनों ने गर्भस्थ शिशु का लिंग परीक्षण करा लिया था। डॉक्टर ने बताया कि लड़की है तो ससुराल वालों ने जीना हराम कर दिया। अंतत: महिला ने आत्मघाती कदम उठाया। 

घटना नोहटा थाना क्षेत्र में शुक्रवार 15 सितम्बर की है। बताया जाता है कि महिला की तीन बेटियां पहले से थीं और वो छह माह की प्रेग्नेंट थी। एसपी विवेक अग्रवाल ने बताया कि मौसीपुरा निवासी 30 साल की रानी पति नेपाल सिंह ने सुबह 9 बजे सास गुड्‌डी बाई को पेट में दर्द होने की बात कह उसे दवा लेने के लिए भेजा और कमरा बंद करके बड़ी बेटी मुस्कान 7, मझली बेटी मानसी 3 और तुलसा डेढ़ साल को गोद में बैठाकर चारों पर करीब 15 लीटर केरोसिन डालकर आग लगा ली। आग में झुलसने से मानसी और तुलसा की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि मुस्कान की सांसें चल रहीं थीं। उसे तुरंत जिला अस्प्ताल भेजा गया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। बाद में रानी की भी मौत हो गई।

जिस डायरी में लिखी थी कहानी वो गायब हो गई
जिला अस्पताल में दिए बयान में रानी लोधी ने बताया कि उसके पेट में दर्द असहनीय था, इसलिए उसने ऐसा कदम उठाया। हादसे के दौरान पति नेपाल सिंह खेत गया था। रानी के पिता उम्मेद सिंह ने बताया कि अस्पताल में उससे बात हुई है तो वह बोल रही है कि कुछ नहीं बोलेगी। घर में रखे बेग में डायरी में उसने सारी बातें लिख दीं हैं। एसपी ने बताया कि महिला की सोनोग्राफी हुई थी या नहीं, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से पूछताछ की जा रही है। इतना पता चला है कि महिला गर्भवती है। बेग में कोई डायरी नहीं मिली है। अभी एफएसएल और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर हैं। उनके लौटने पर ही सही बात सामने आएगी।

पति ने किया समर्थन
घटना स्थल पर महिला के पति नेपाल सिंह ने रोते हुए कहा कि गर्भ चौथी बेटी होने के संदेह पर रानी को ताने सुनने को मिल रहे थे, इससे वह परेशान हो गई थी। इसी वजह से उसने बेटियों के साथ खुद भी जान दे दी।

मामले में लीपापोती
इस मामले में एक तरफ महिला के सास ससुर फंस रहे हैं तो दूसरी तरफ वो डॉक्टर जिसने लिंग परीक्षण किया है। अत: मामले मं इस तरह से लीपापोती की जा रही है कि कम से कम डॉक्टर तो बच ही जाए। डॉक्टर के बचाने के लिए सास ससुर को भी बचाया जा रहा है। वो डायरी गायब कर दी गई है जिसमें सुसाइड नोट लिखा था। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week