मेरी WIFE अभी भी डेरा बाबा की कैद में है: नया खुलासा

Saturday, August 26, 2017

नई दिल्ली। राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद कई पीडि़तों की हिम्मत बढ़ी है। राम रहीम के ऊपर आरोप लगाने वाले जयपुर के जगतपुरा के कच्ची बस्ती में रहने वाले कमलेश रैगर पुलिस से गुहार लगा रहे हैं कि, 'मुझे मेरे बीवी को दिलवा दो।' मेरी बीवी को गुरमीत राम रहीम ने अपने सिरसा के आश्रम में कैद कर रखा है। अपने दो छोटे बच्चों को अकेले पाल रहे कमलेश ने बताया कि कच्ची बस्ती के बहुत सारे लोग सिरसा डेरा जाते थे, इसलिए वो भी उनके साथ अपने पत्नी बच्चों के साथ गए। वहां हमारे परिचित दत्ता भी थे, जिन्होंने एक जगह हमें रख दिया। उसके बाद वहां से उनके साथ उनकी पत्नी नहीं लौटी।

नहाने गई तो दोबारा नहीं लौटी
कमलेश ने बताया कि उसके अगले दिन मेरी पत्नी मेरे बच्चे को छोड़कर एक सेवादार के साथ नहाने गई तो दोबारा नहीं लौटी। कमलेश ने बताया कि, हमने जब आश्रम में पूछा तो कहा गया कि तुम अब वापस चले जाओ तुम्हारी पत्नी बाबा के ध्यान में लीन हो गई है। जब उसका ध्यान खत्म होगा तो वो खुद चली आएगी। उसके बाद कई लोगों के साथ वो कई बार आश्रम गए, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। जब थाने में गया तो जयपुर पुलिस बोली कि जहां पत्नी गायब हुई वहां पर जाकर मुकदमा दर्ज करवाओ। फिर एक वकील साहब से मिला तो उन्होंने कोर्ट में जरिए जयपुर के जवाहर सर्किल थाने में मुकदमा दर्ज करवाया। हालांकि पुलिस ने कोर्ट में यह कहा कि बाबा के आश्रम में जांच करवाना संभव नहीं है। वहीं राम रहीम को जेड श्रेणी की सुरक्षा मिली है मगर कई तरह के आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं।

समर्थकों ने दी धमकी
इस बीच कमलेश के पास बाबा के लोग धमकी देने पहुंच गए। इन लोगों ने कमलेश को धमकाया कि या तो पैसे ले लो या फिर मुंह बंद कर लो नहीं तो जान से मार देंगे। बाद में पुलिस ने भी उसे थाने से भगाना शुरू कर दिया। डर कर कमलेश घर पर बैठ गया और अपने दोनों बच्चों की देखभाल करने लगा। हालांकि अब राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद इसे उम्मीद बंधी है कि इसकी बीवी इसे वापस मिल जाएगी।

होनी है सुनवाई
कमलेश की पत्नी को गायब करने के आरोप में जयपुर के मजिस्ट्रेट कोर्ट में सात सितंबर को एक बार फिर से सुनवाई होनी है। 5 मई 2015 को कमलेश ने कोर्ट में परिवाद दर्ज की थी कि 21 अप्रैल 2015 को वो और उसकी पत्नी दोनों बच्चों के साथ राम रहीम के सिरसा आश्रम में गए थे, लेकिन दो दिन बाद वहां पर उसकी पत्नी को कैद कर लिया गया है। कोर्ट ने जयपुर के जवाहर नगर थाने को मुकदमा दर्ज कर उसकी पत्नी को पेश करने के लिए कहा था। 8 मई 2015 को जवाहर नागर थाने में राम रहीम के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाया गया था, जिसमें पुलिस अबतक जांच नही कर पाई है।

यह है मामला
जयपुर के जगतपुर के मनहोरपुर में रहनेवाले कमलेश रैगर ने राजस्थान हाईकोर्ट में हैबियस कार्पस लगाई गई थी कि वो अपनी पत्नी 26 साल की गुड्डी देवी राम रहीम के सिरसा के डेरे में अपने बच्चों के साथ गया था। 23 से 25 मार्च 2015 तक वो राम रहीम के आश्रम में थे, लेकिन वहां के इंचार्ज दत्ता पत्नी को राम रहीम से मिलवाने ले गए तब से उसकी पत्नी नहीं मिली और अब डेरा वाले पत्नी के बारे में पूछने पर आश्रम से भगा दे रहे हैं। उसके बाद कोर्ट ने राजस्थान के डीजीपी से कमलेश की पत्नी को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया था। मगर पुलिस उसको कोर्ट में पेश करने में सफल नहीं हो पाई तो मजिस्ट्रेट कोर्ट ने राम रहीम समेत तीन लोगों पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week