SIRT BHOPAL में रैगिंग: रात 3 बजे तक डांस करवाते हैं

Wednesday, August 30, 2017

भोपाल। SAGAR INSTITUTE OF RESEARCH & TECHNOLOGY BHOPAL में रैगिंग की शिकायत सामने आई है। मंगलवार को एंटी रैगिंग हेल्पलाइन में की गई शिकायत में जूनियर्स ने कहा है कि सीनियर स्टूडेंट्स उन्हे काफी प्रताड़ित कर रहे हैं। रात 3 बजे तक सोने नहीं दिया जाता। डांस करवाते हैं। रैगिंग पीड़ित जूनियर छात्र ने शिकायत में कहा है कि द्वितीय वर्ष से लेकर चौथे वर्ष तक के छात्र जूनियर छात्रों की रैगिंग लेते हैं। कई बार तो मिलकर रैगिंग ली जाती है। पीड़ित छात्र ने कहा कि उनसे ऐसे काम करने के लिए दबाव बनाया जाता है जिसे वे नहीं करना चाहते। उनकी कोई सुनवाई भी नहीं होती है।

रात को तीन बजे तक डांस करवाते हैं
पीड़ित छात्र ने शिकायत में कहा है कि सीनियर छात्र जूनियर्स से रात में तीन बजे तक डांस करने के लिए कहते हैं। उन्हें कमरे में बंद कर डांस करने को कहा जाता है। कई बार वे उन्हें सोने नहीं देते। ऐसी स्थिति में वे मानसिक प्रताड़ना का शिकार होते हैं। तनाव में आते हैं। यही नहीं ,उन्हें कई बार शारीरिक प्रताड़ना भी दी जाती है। गौरतलब है कि सागर ग्रुप के रातीबड़ स्थित कॉलेज में भी हाल में रैगिंग की शिकायत की गई थी।

इधर, जिस छात्र ने रैगिंग की शिकायत की है उसने अपने नाम का खुलासा नहीं किया है। सीनियर के नाम भी नहीं बताए गए हैं। अब कॉलेज प्रबंधन छात्र की जानकारी जुटा रहा है।

इनका कहना है
रैगिंग की शिकायत आई है। लेकिन, अब तक यह जानकारी नहीं मिली है कि शिकायत करने वाला कौन छात्र है। जूनियर छात्रों से पूछताछ करेंगे। अगर शिकायत सही पाई जाती है तो नामों का खुलासा होने पर संबंधित सीनियर छात्रों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।
डॉ.अखिलेश उपाध्याय, 
डायरेक्टर, सागर इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी

------
24 घंटे होती है रैगिंग की शिकायत
शिक्षण संस्थान में सीनियर छात्रों द्वारा जूनियर्स को किसी भी रूप में प्रताड़ित करना रैगिंग की श्रेणी में आता है। यूजीसी ने रैगिंग की रोकथाम के लिए 24 घंटे हेल्पलाइन सर्विस शुरू की है। रैगिंग की शिकायत टोल फ्री नंबर 1800-180-5522 पर की जा सकती है। छात्र अपने कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी को भी इसकी शिकायत कर सकता है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं