GST परिषद का अधीक्षक रिश्वतखोरी मामले में गिरफ्तार, CBI की कार्रवाई

Friday, August 4, 2017

मनीष मल्होत्रा की फेसबुक प्रोफाइल से लिया गया फोटो
नई दिल्ली। पूरे भारत में शोर है कि 'देशहित में GST का पालन करें' और GST परिषद का अधीक्षक ही रिश्वतखोरी के मामले में गिरफ्तार हो गया। सीबीआई ने यह कार्रवाई की है। गिरफ्तार किए गए अधिकारी का नाम मनीष मल्होत्रा है। सीबीआई का दावा है कि मानस पात्रा नाम का एक व्यक्ति मनीष मल्होत्रा की रिश्वत वसूली का काम करता था और बाद में सारा पैसा मल्होत्रा की पत्नि और बेटी के खातों में ट्रांसफर कर देता था। फिलहाल केवल मनीष मल्होत्रा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है परंतु बैंक दस्तावेज प्रमाणित होने के बाद मनीष की पत्नि और बेटी भी मामले की आरोपी हो सकतीं हैं। 

यह संभवत: पहला मामला है जब जीएसटी परिषद के किसी अधिकारी को सीबीआई ने गिरफ्तार किया। यह आरोप है कि पूर्व में केंद्रीय उत्पाद शुल्क विभाग में नियुक्त मल्होत्रा भ्रष्ट गतिविधियों में शामिल था। वह निजी कंपनियों को अनुचित लाभ पहुंचाने तथा उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के एवज में रिश्चवत लेता रहता था। जांच एजेंसी को यह पता चला कि मल्होत्रा की तरफ से मानस पात्रा लोगों से संपर्क करता और तिमाही या मासिक आधार पर रिश्वत लेता था।

सीबीआई की प्राथमिकी के अनुसार पात्रा रिश्वत की राशि अपने कोष में जमा करता और बाद में उसे मल्होत्रा की पत्नी शोभना के एचडीएफसी बैंक खाते और बेटी के आईसीआईसीआई बैंक खाते में भेजता। जांच एजेंसी के एक अधिकारी के अनुसार सीबीआई को यह पता चला था कि मानस पात्रा मनीष मल्होत्रा के निवास पर जा कर धन-राशि के साथ कुछ कागज सौंपने वाला था जिसमें रिश्वत प्राप्तियों के बारे में पूरा ब्योरा होगा। उसने कहा कि सीबीआई ने परिसर की तलाशी ली और मल्होत्रा तथा पात्रा को रिश्वत की राशि तथा कुछ दस्तावेज के साथ गिरफ्तार किया।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं