लिव इन रिलेशन एक सामाजिक आतंकवाद, तीन तलाक से खतरनाक: मानवाधिकार आयोग

Monday, August 21, 2017

जयपुर। राजस्थान के राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष और झारखंड हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस रहे प्रकाश टाटिया का कहना है कि लिव इन रिलेशन एक सामाजिक आतंकवाद है। उनके इस बयान के साथ ही बहस छिड़ गई है। सोशल मीडिया पर लोग एक तरफ टाटिया के बयान का समर्थन कर रहे हैं तो दूसरी ओर इसका विरोध भी किया जा रहा है। टाटिया ने अपने बयान के समर्थन में कुछ तर्क भी प्रस्तुत किए हैं। साथ ही यह भी जोड़ा कि लिव इन रिलेशन के मामले तीन तलाक से ज्यादा खतरनाक हैं। यह महिला को तीन तलाक से ज्यादा कष्ट देते हैं। 

एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में टाटिया ने कहा है कि लिव इन ​रिलेशनशिप को भी महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज से कानूनी जामा पहनाने की आवश्यकता है। टाटिया के अनुसार यह रिश्ता सामजिक आतंंकवाद के श्रेणी में इसलिए आता है क्योंकि ​जहां भी इस प्रकार के कपल रहते है वहां आसपास रहने वाले अन्य लोगों में अपने बच्चों को लेकर भय और तनाव का माहौल हो जाता है।

वर्ष 2015 में राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष बने टाटिया का कहना है कि यह रिलेशनशिप इसलिए भी हानिकारक है क्योंकि ऐसे कपल के बच्चों की सोसयटी में स्वीकार्यता नहीं है। वहीं दूसरी और यदि कपल इस रिश्ते में अलग होते है तो सबसे अधिक खामियाजा औरत को उठाना पड़ता है। टाटिया का कहना है कि वर्तमान में हम बहस कर रहें है तीन तलाक औरत के लिए कितना पीड़ादायक है लेकिन लिव इन रिलेशनशिप की पी​ड़ा शायद इससे भी अधिक है क्योंकि इस रिश्तें में अलग होने के लिए तीन तलाक भी बोलने की आवश्यकता नहीं है। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week